Guru Gobind Singh Jayanti 2020: गुरु गोबिंद सिंह जी का जन्मोत्सव हर साल धूमधाम से मनाया जाता है. पर उनके बारे में आप कितना जानते हैं?

आज हम आपको उनके बारे में वो बातें बताने जा रहे हैं जिससे शायद ही आप वाकिफ हों.

Guru Gobind Singh
– गुरु गोबिंद सिंह जी (Guru Gobind Singh) सिखों के दसवें गुरु थे. उनका जन्म पटना साहिब में हुआ था.

Guru Gobind Singh Jayanti 2020: प्रकाशोत्‍सव पर भेजें ये Message, Greetings, दें शुभकामनाएं…

– गुरु गोबिंद सिंह को अदम्‍य साहस, सैन्य क्षमता के लिए जाना जाता है. उनके पिता गुरु तेग बहादुर की मृत्यु के बाद वे गुरु बने.

– उन्होंने अपना पूरा जीवन लोगों की सेवा में बिताया.

– गुरु गोबिंद सिंह ने ही सिख धर्म के पवित्र ग्रंथ गुरु ग्रंथ साहिब (Guru Granth Sahib) को पूरा किया.

– गुरु गोबिंद सिंह जी ने गुरु प्रथा को समाप्त किया. इसके बाद गुरु ग्रंथ साहिब की पूजा की जाने लगी.

– गोबिंद सिंह जी ने खालसा वाणी – “वाहेगुरु जी का खालसा, वाहेगुरु जी की फतह” भी दी.

– खालसा पंथ की की रक्षा के लिए गुरु गोबिंग सिंह जी मुगलों और उनके सहयोगियों से कई बार लड़े.

– खालसा पंथ की स्थापना गुरु गोबिन्द सिंह जी ने 1699 को बैसाखी वाले दिन आनंदपुर साहिब में की.

– उन्होंने खालसा को पांच सिद्धांत दिए, जिन्‍हें ‘पांच ककार’ कहा जाता है. पांच ककार का मतलब ‘क’ शब्द से शुरू होने वाली उन 5 चीजों से है, जिन्हें गुरु गोबिंद सिंह के सिद्धांतों के अनुसार सिखों को धारण करना होता है.

– गुरु गोविंद सिंह ने सिखों के लिए पांच चीजें अनिवार्य की थीं- ‘केश’, ‘कड़ा’, ‘कृपाण’, ‘कंघा’ और ‘कच्छा’. इनके बिना खालसा वेश पूर्ण नहीं माना जाता.

धर्म की और खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें.