Guru Gobind Singh Jayanti 2022: प्रकाश पर्व के रूप में मनाई जाती है गुरु गोबिंद सिंह की जयंती, जानिये महत्‍व

Guru Gobind Singh Jayanti 2022: गुरु गोबिंद सिंह की जयंती 9 जनवरी 2022 को मनाई जाएगी. इस दिन को प्रकाश पर्व के रूप में मनाया जाता है.

Updated: January 7, 2022 1:09 PM IST

By Vandanaa Bharti

Guru Gobind Singh Jayanti 2022: प्रकाश पर्व के रूप में मनाई जाती है गुरु गोबिंद सिंह की जयंती, जानिये महत्‍व
9 जनवरी 2022 को है गुरु गोविंद सिंह की जयंती

Guru Gobind Singh Jayanti 2022: गुरु गोबिंद सिंह जयंती का शुभ अवसर इस साल 09 जनवरी 2022 को मनाया जा रहा है. उनके जन्‍म दिवस को प्रकाश पर्व के रूप में मनाया जाता है. गुरु गोविंद सिंह 10वें और अंतिम सिख गुरु थे, जो 9 साल की उम्र में गुरु के रूप में उभरे. गुरु गोविंद को एक निडर योद्धा के रूप में देखा जाता है. साथ ही उन्‍हें आध्यात्मिक गुरु और दार्शनिक के रूप में भी जाना जाता है. महान आध्यात्मिक गुरु का जन्म बिहार के पटना में गुरु तेग बहादुर और माता गुजरी के घर हुआ. गुरु गोबिंद सिंह जी के चार बेटे थे, अजीत सिंह, जुझार सिंह, जोरावर सिंह और फतेह सिंह.

Also Read:

गुरु श्री गोबिंद सिंह जी की जयंती लोग बहुत धूम-धाम से मनाते हैं. घर में पकवान बनाए जाते है, लोग एक दूसरे को बधााइयां देते हैं और गुरुद्वारा में कीर्तन का आयोजन होता है. इस दिन सभी गुरुद्वारों में लंगर की व्‍यवस्‍था होती है.

Guru Gobind Singh Jayanti 2022: तारीख और मुहूर्त
ऐसी मान्‍यता है कि गुरु गोबिंद सिंह का जन्‍म 22 दिसम्बर 1666 की पौष शुक्ल सप्तमी को पटना साहिब में हुआ था. लेकिन अंग्रेजी कैलेंड, पंचांग तिथ‍ि और नानकशाही कैलेंडर में तारीखें अलग-अलग बताई जाती हैं. लिहाजा पौष शुक्‍ल सप्‍तमी को ही गुरु गोबिंद सिंह जी के जन्‍म दिन के रूप में मनाया जाता है.

पंचांग के अनुसार इस साल पौष शुक्‍ल सप्‍तमी 8 जनवरी 2022 को रात 10:42 बजे लग रही है, जो अगले दिन 9 जनवरी 2022 को 11:08 बजे तक रहेगी. लिहाजा इस साल 9 जनवरी 2022 को गुरु गोविंद सिंह जयंती मनाई जाएगी.

355th Birth Anniversary of Guru Gobind Singh: तिथ‍ि और मुहूर्त
गुरु गोबिंद सिंह जयंती (Guru Gobind Singh Jayanti): 09 जनवरी 2022
सप्‍तमी तिथ‍ि : 10:42, 8 जनवरी 2022
सप्‍तमी तिथ‍ि समाप्‍त कब हो रही: 11:08, 9 जनवरी 2022

गुरु गोबिंद सिंह जी ने 1699 में सिख योद्धा समुदाय खालसा की स्थापना की थी और पांच सिद्धांतों की स्थापना की, जिनका सिख धर्म में अत्यधिक महत्व है. जिन सिद्धांतों की नीव गुरु गोबिंद सिंह जी ने रखी, उसमें पांच ‘क’ शामिल है, केश (बिना कटे बाल), कंघा (लकड़ी की कंघी), करा (एक लोहे या स्टील का ब्रेसलेट), कृपाण (तलवार या खंजर) और कचेरा (छोटी जांघिया).

ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज अपडेट के लिए हमें फेसबुक पर लाइक करें या ट्विटर पर फॉलो करें. India.Com पर विस्तार से पढ़ें धर्म की और अन्य ताजा-तरीन खबरें

Published Date: January 7, 2022 1:07 PM IST

Updated Date: January 7, 2022 1:09 PM IST