Guru Pradosh Vrat 2020: गुरु प्रदोष व्रत का हिंदू धर्म में काफी महत्‍व है. इस बार का गुरु प्रदोष इसलिए खास है क्‍योंकि ये महाशिवरात्रि से एक दिन पहले होगा. इस प्रदोष को शत्रुनाशक प्रदोष कहा गया है. Also Read - चारधाम यात्रा 2020: इस तारीख को खुलेंगे भगवान शिव के धाम केदारनाथ के कपाट

Guru Pradosh Vrat 2020 Date

इस बार प्रदोष व्रत 20 फरवरी, गुरुवार को है. गुरुवार को प्रदोष होने से इसे गुरु प्रदोष व्रत कहा जाता है. Also Read - Maha Shivratri 2020 lord shiva mahadev ujjain kashi varanasi kashi vishwanath temple worship महाशिवरात्रि: भोलेनाथ के दर्शन को उमड़े श्रद्धालु, उज्जैन से लेकर काशी तक मंदिरों में भीड़

बेहद सतर्क होकर पहनना चाहिए नीलम, इन 8 तरीकों से जानें अनुकूल है या नहीं… Also Read - Maha Shivratri 2020: राशि के अनुसार शिवलिंग पर जलाभिषेक कर चढ़ाए ये चीजे, भोलेनाथ की कृपा संग बरसेगा पैसा

महत्‍व

गुरु प्रदोष को शत्रु का नाश करने वाला बताया गया है. जिन लोगों की कुंडली में चंद्रमा कमजोर होता है, उन्‍हें ये व्रत अवश्‍य करना चाहिए. प्रदोष व्रत पर शिव पूजन करने से भगवान शिव की आशीर्वाद मिलता है. परेशानियां दूर होती हैं.

विधि

त्रयोदिशी तिथि को सुबह सूर्योदय से पहले उठें. व्रत का संकल्प लें. फिर भगवान शिव, मां पार्वती, गणपति, कुमार कार्तिकेय की पूजा करें. इस व्रत में दिन भर केवल फलाहार कर सकते हैं.

शाम को सूर्यास्‍त के समय स्‍नान करें. साफ और सफेद रंग के कपड़े पहनें. भगवान शिव के सामने घी का दीपक जलाएं. भगवान शिव को बिल्व पत्र, सुपारी, लौंग, इलायची, फूल, धूप, गंध, चावल, दीप, पान, भोग और फल चढ़ाएं. इसके बाद भगवान शिव के मंत्रों का जप करें. आरती करें. भोग लगाएं. कई जगह भगवान शिव को घी और शक्कर मिले जौ के सत्तू का भोग लगाया जाता है. प्रसाद को परिवार में वितरित करें.

Pradosh Vrat 2020 Shubh Muhurat

गुरु प्रदोष व्रत पर इस बार पूजन का शुभ मुहूर्त 20 फरवरी, गुरुवार रात 6:37 बजे से 9:07 बजे तक का है.

धर्म की और खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें.