Guru Purnima 2021 Date: आषाढ़ मास की पूर्णिमा तिथि को गुरु पूर्णिमा दिवस के रूप में जाना जाता है. परम्परागत रूप से यह दिन गुरु पूजन के लिए निर्धारित है. गुरु पूर्णिमा के अवसर पर शिष्य अपने गुरुओं की पूजा-अर्चना करते हैं. गुरु, अथार्त वह महापुरुष, जो आध्यात्मिक ज्ञान एवं शिक्षा द्वारा अपने शिष्यों का मार्गदर्शन करते हैं. गुरु पूर्णिमा को व्यास पूर्णिमा के नाम से भी जाना जाता है. इस साल गुरु पूर्णिमा 24 जुलाई 2021 को मनाई जाएगी.Also Read - Guru Purnima 2021 Wishes: गुरु पूर्णिमा के मौके पर इन खास संदेशों के जरिए गुरुओं का कहें शुक्रिया

गुरु पूर्णिमा शुभ मुहूर्त- (Guru Purnima 2021 Shubh Muhurat) Also Read - Guru Purnima 2021: VIDEO- गुरु पूर्णिमा के दिन स्वर्गीय कोच Ramakant Achrekar के घर पहुंचे Sachin Tendulkar, यूं किया नमन

हिंदू पंचांग के अनुसार, आषाढ़ मास की पूर्णिमा 23 जुलाई को सुबह 10 बजकर 43 मिनट से शुरू होगी, जो कि 24 जुलाई की सुबह 08 बजकर 06 मिनट तक रहेगी. उदया तिथि में पूर्णिमा मनाए जाने के कारण यह 24 जुलाई, शनिवार को मनाई जाएगी.

गुरु पूर्णिमा की पूजा विधि (Guru Purnima 2021 Puja Vidhi)

गुरु पूर्णिमा के दिन सुबह उठकर सभी कामों से निवृत्त होकर मंदिर जाकर देवी-देवता का नमन करें. इसके बाद इस मंत्र का उच्‍चारण करें- ‘गुरु परंपरा सिद्धयर्थं व्यास पूजां करिष्ये’.

इसके बाद ब्रह्मा, विष्णु और महेश की पूजा अर्चना करें. इसके लिए फल, फूल, रोली लगाएं. इसके साथ ही अपनी इच्छानुसार भोग लगाएं. फिर धूप, दीपक जलाकर आरती करें.