Guru Purnima 2019: गुरु पूर्णिमा 16 जुलाई, मंगलवार को है. इस दिन गुरु की पूजा का विधान है.

इस दिन लोग एक-दसरे को गुरु पूर्णिमा विश करते हैं और बधाई संदेश भेजते हैं. कितना अच्‍छा हो अगर ये बधाई संदेश हिंदी में हों.

अगर आप भी इस तरह के मैसेज भेजना चाहते हैं तो इन्‍हें Save करके आगे भेज सकते हैं.

देखें-

 

क्‍यों मनाई जाती है गुरु पूर्णिमा
इस दिन ऋषि पराशार और सत्यवती के घर महाभारत के रचयिता कृष्णा-द्विपयण व्यास का जन्म हुआ था. इसलिए इसे व्यास पूर्णिमा भी कहते हैं. ऋषि व्यास सभी वैदिक स्तोत्र को इकट्ठा कर वैदिक अध्ययन करते थे और बाद में उन्हें संस्कार व अभिलक्षण के आधार पर चार हिस्सों में बांट दिया. इसे ही ऋग्वेद, यजुर्वेद, सामवेद और अथर्ववेद का नाम दिया गया.

परंपरागत तौर पर बुद्ध को मानने वाले इस पर्व को भगवान बुद्ध की याद में मनाते हैं. माना जाता है कि वाराणसी के सारनाथ में उन्होंने अपने शिष्यों को पहला उपदेश दिया था.

वहीं, भगवान शिव को दुनिया का पहला गुरु माना जाता है. ऐसी मान्यता है कि भगवान शंकर ने सप्तऋषि को योग सिखाया था.