Hariyali Amavasya 2019: सावन मास की हरियाली अमावस्‍या आने वाली है. इस साल अमावस्‍या 1 अगस्‍त, गुरुवार को है. Also Read - Hariyali Amavasya 2019: बहुत महत्‍वपूर्ण होती है श्रावण अमावस्‍या, जानें तिथि, पूजन विधि...

इस अमावस्‍या का काफी महत्‍व होता है. इस दिन स्नान-दान किया जाता है.

बने रहे शुभ योग
इस बार की अमावस्‍या खास है. वजह है इस दिन बनने वाले चार शुभ योग. ये योग हैं शुभ योग, सर्वार्थ सिद्धि, अमृत सिद्धि योग और गुरु पुष्य नक्षत्र. इन योगों में किए गए पूजा-पाठ का दोगुना फल प्राप्‍त होता है.

Hariyali Amavasya 2019: बहुत महत्‍वपूर्ण होती है श्रावण अमावस्‍या, जानें तिथि, पूजन विधि…

Hariyali Teej 2019: क्‍यों मनाई जाती है हरियाली तीज, श्रृंगार का क्‍या है महत्‍व…

ये काम जरूर करें

शिव-पार्वती पूजा- सावन माह में शिव पूजा का विशेष विधान है. अमावस्या पर शिव-पार्वती की पूजा करनी चाहिए. मां पार्वती को सुहाग का सामान चढ़ाएं. शिवलिंग पर पंचामृत अर्पित करें.

लगाएं पौधा- इस दिन एक पौधा अवश्‍य लगाएं. किसी मंदिर में या उसके समीप भी इसे लगा सकते हैं. मंदिर में जैसे-जैसे पौधा बड़ा होगा, वैसे-वैसे आपको सकारात्मक फल मिलेंगे.

पितरों की पूजा- अमावस्या पर पितरों की पूजा करें. अमावस्या पर पितरों के लिए धूप-ध्यान करना चाहिए. पितरों का श्राद्ध, तर्पण भी कर सकते हैं.

हरियाली अमावस्‍या
सावन शिवरात्रि से अगला दिन श्रावणी अमावस्या का होता है. सावन में हर ओर हरियाली होने के कारण इसे हरियाली अमावस्‍या भी कहा जाता है. इस अमावस्या के तीन दिन बाद हरियाली तीज आती है. इस दिन विधि-विधान पूजन और दान से जीवन से सभी प्रकार के कष्‍ट दूर होते हैं.