Hariyali Amavasya 2019: सावन मास में आने वाली हरियाली अमावस्‍या का काफी महत्‍व है. इसे श्रावण अमावस्‍या भी कहा जाता है. इस दिन स्नान-दान का विशेष महत्‍व होता है.

Hariyali Amavasya Date
इस बार श्रावण अमावस्‍या 1 अगस्‍त, गुरुवार को है.

Hariyali Amavasya Significance
सावन शिवरात्रि से अगला दिन श्रावणी अमावस्या का होता है. सावन में हर ओर हरियाली होने के कारण इसे हरियाली अमावस्‍या भी कहा जाता है. इस अमावस्या के तीन दिन बाद हरियाली तीज आती है. इस दिन विधि-विधान पूजन और दान से जीवन से सभी प्रकार के कष्‍ट दूर होते हैं.

हरियाली अमावस्‍या पूजन विधि
इस दिन पीपल की पूजा की जाती है. इसके फेरे लिये जाते हैं. मालपूओं का भोग लगाया जाता है. पीपल, बरगद, केला, नींबू, तुलसी आदि लगाए जाते हैं. कई जगह इस दिन गेंहू, ज्वार, मक्का आदि की सांकेतिक बुआई भी करने की पंरपरा है.

अमावस्या पर क्या करें-
– नदी या तालाब के पास जाकर मछली को आटे की गोलियां खिलाएं.
– हनुमान मंदिर जाएं. हनुमान जी का पूजन करें. उन्‍हें सिंदूर और चमेली का तेल चढ़ाएं.
– शाम को मां लक्ष्मी को खुश करने के लिए घर के ईशान कोण में घी का दीपक जलाएं. दरिद्रता दूर होगी.
– पूजा की थाली में स्वस्तिक या ॐ बनाकर उस पर महालक्ष्मी यंत्र रखें.
– तुलसी के पौधे पर दीपदान अवश्य करें.
– इसके साथ ही हरियाली अमावस्या पर ब्रह्माणों और जरूरत लोगों को अपनी हिसाब से दान पुण्य करें.

श्रावण अमावस्या तिथि
अमावस्या तिथि आरंभ – 11:57 बजे (31 जुलाई 2019)
अमावस्या तिथि समाप्त – 08:41 बजे (01 अगस्त 2019)