Hariyali Teej 2019: श्रावण मास में आने वाली हरियाली तीज सौभाग्‍य का वरदान लेकर आती है. इस व्रत को करने वाली हर महिला इस व्रत का पूरे साल इंतजार करती है. हो भी क्‍यों ना, इस व्रत में पति की लंबी आयु की कामना की जाती है.

इस दिन सुहागिनें पूरा साज-श्रृंगार करती हैं. मेहंदी भी लगाई जाती है. महिलाओं को लेटेस्‍ट मेहंदी डिजाइंस का इंतजार रहता है.

क्‍यों मनाई जाती है हरियाली तीज
ऐसी मान्‍यता है कि कठोर तपस्‍या के बाद इसी दिन मां पार्वती का विवाह भगवान शंकर से हुआ था. मां पार्वती की तपस्‍या से प्रसन्‍न होकर भगवान शंकर ने श्रावण मास के शुक्‍ल पक्ष की तृतीया को मां पार्वती से विवाह किया.

श्रृंगार का महत्‍व
हरियाली तीज के दिन श्रृंगार का खास महत्‍व है. तीज के दिन सुहागनों को 16 श्रृंगार करने का विधान है. जो ये ना कर सकें वे तीन महत्‍वपूर्ण श्रृंगार- मेहंदी, चूड़ी और साड़ी अवश्‍य पहनकर पूजन करें.

कब मनाई जाती है
श्रावण माह के शुक्ल पक्ष की तृतीया को हरियाली तीज पर्व के रूप में मनाया जाता है. इसे हरियाली इसलिए कहा जाता है क्योंकि यह सावन के महीने में आता है.
क्‍या करती हैं सुहागिनें
महिलाएं इस दिन मां पार्वती और भगवान शंकर की पूजा करती हैं और अपने पति के लंबी आयु की कामना करती हैं. व्रत रखती हैं. श्रृंगार कर शिव-पार्वती पूजन किया जाता है.

Hariyali Teej 2019 Date
हरियाली तीज का व्रत इस साल 3 अगस्‍त, शनिवार को किया जाएगा.