नई दिल्ली: 23 जुलाई को श्रावण मास (sharavan) की शुक्ल पक्ष की तृतीया तिथि को हरियाली तीज मनाई जाएगी. इस दिन सुहागिन महिलाएं पति की लंबी उम्र के लिए व्रत रखती हैं. इस दिन महिलाएं सजती संवरती हैं और इस दिन झूला भी झूलते हैं. कई जगह माता पार्वती की सवारी बड़ी धूम धाम से निकाली जाती है. हालांकि कोरोना वायरस की वजह से इस बार हरियाली तीज के त्योहार की वो रौनक नहीं देखऩे को मिलेगी. हरियाली तीज के व्रत में व्रती भगवान शिव और माता पार्वती की पूजा करती हैं और उनसे पति की लंबी उम्र की कामना करती हैं. दिनभर भूखे रहने की वजह से ये व्रत काफी मुश्किल होता है. ऐसे में अगर गर्भवती महिलाएं ये व्रत रख रही हैं तो उन्हें कुछ खास बातों का ख्याल रखना चाहिए. ताकि उनके बच्चे पर इसका कोई बुरा असर ना पड़े.Also Read - Hariyali Teej 2020 Quotes: हरियाली तीज के मौके पर दोस्तोंं और परिवारजनों को भेजें ये SMS,कोट्स और मैसेज

– आमतौर पर हरियाली तीज में महिलाएं निर्जला व्रत रखती हैं लेकिन अगर आप गर्भवती हैं तो कभी भी भूखे प्यासे रहकर व्रत ना करें. निर्जला व्रत रखना मां और उसके होने वाले बच्चे दोनों के लिए घातक हो सकता है. Also Read - Hariyali teej 2020 Subh Muhurat: Aaj 23 जुलाई को मनाई जाएगी हरियाली तीज, यहां जानें शुभ मुहूर्त और पूूजा विधि

– गर्भवती महिलाएं व्रत के समय कुछ कुछ देर पर दूध, ताजा फलों का जूस आदि लेत रहें. Also Read - Hariyali Teej 2020 Puja: हरियाली तीज की पूजा में जरूर शामिल करें ये पूजन सामग्री

– गर्भवती महिलाएं खाली पेट चाय या कॉफी का सेवन न करें. इससे आपको एसिडिटी की समस्या हो सकती है.

– तीज के त्योहार में महिलाएं झूला झूलती हैं लेकिन गर्भवती महिलाएं ऐसा न करें. ऐसा करना उनके लिए खतरनाक हो सकता है.

– व्रत के दौरान गर्भवती महिलाएं ज्यादा इधर-उधर न घूमें. इसके साथ ही मीठा भी ज्यादा न खाएं.

– व्रत तोड़ने के दौरान शुरू में एक गिलास जूस या नारियल पानी पीएं. इसके बाद कुछ हल्का खाना खाएं.

हरियाली तीज (hariyali teej 2020) का महत्व

तीज पर महिलाएं शिव-पार्वती की आराधना करके अपने मंगलमय दांपत्य जीवन की कामना करती हैं. तीज न सिर्फ सुखी दांपत्य जीवन की कामना का पर्व है, पूरे परिवार के सुखमय जीवन की कामना का भी पर्व है. दांपत्य जीवन अगर खुशहाल है तो पूरा परिवार खुशहाल होगा ही.