Holi 2019: होली का पर्व साल में आने वाले सबसे बड़े त्योहारों में से एक है जिसे केवल भारत में ही नहीं बल्कि दूर देशों में भी बड़े उत्साह के साथ मनाया जाता है. क्या बच्चे, क्या बड़े, क्या महिलाएं और क्या पुरुष सभी इस पर्व का भरपूर आनंद उठाते हैं. इसीलिए तो इसे आनंद और उल्लास का पर्व भी कहा जाता है. लाल, पीले, हरे, गुलाबी आदि रंगों से रंगे गाल माहौल को और खुशनुमा बना देते हैं. होली का त्‍योहार फाल्‍गुन मास में पूर्ण‍िमा के दिन मनाया जाता है. इस साल यह 21 मार्च 2019 को मनाया जाएगा. यानी 20 मार्च को होलाष्टक खत्‍म होने के साथ होलिका दहन होगा और 21 मार्च को रंगों के साथ त्योहार मनाया जाएगा. होलिका दहन को लोग छोटी होली भी कहते हैं.

Happy Holi 2019 Wishes: होली पर अपनों को भेजें Whatsapp Messages, Facebook Status, SMS

भद्रा काल में क्‍यों नहीं करते होलिका दहन
भद्रा काल में होलिका दहन ना करने का विशेष कारण है. भद्रा का वास तीन जगह होता है, आकाश, पाताल, और मृत्‍युलोक में. अगर भद्रा आकाश और पाताल में है तो इस काल में होलिका दहन से कोई ज्‍यादा फर्क नहीं पड़ता. लेकिन भद्रा यदि मृत्‍युलोक में है तो इस काल में होलिका दहन करना काल बन सकता है. भद्रा काल में होलिका मनाने वाले के साथ दुर्घटना होने की आशंका होती है.

Holi 2019: होली पर करें ये 5 टोटके, साल भर घर में रहेगा लक्ष्‍मी का वास…

होलिका दहन मुहूर्त
होलिका दहन का शुभ मुहूर्त – 20:58 से 24:23 तक

होलिका दहन भद्रा विचार
भद्रा पूंछ – 17:34 से 18:35
भद्रा मुख – 18:35 से 20:17

Holi 2019: होली पर राशि अनुसार खेले रंग, मिलेगा धन-धान्‍य व सौभाग्‍य…

होलिका दहन के नियम
धर्मशास्त्रों के अनुसार निम्न तीन नियम हैं जिनका होलिका दहन के समय पालन करना आवश्यक होता है:-
1. फाल्गुन शुक्ल पक्ष की पूर्णिमा
2. रात का समय
3. भद्रा बीत चुकी हो

Holi 2019: होलिका दहन और होली पर महासंयोग, इस एक उपाय से दूर होगी हर बीमारी…