रमजान का महीना खत्म होते ही ईद मनाई जाती है. रमजान के पाक महीने में लोग 29 या 30 दिनों तक रोजा रखते हैं. रमजान के आखिरी दिन चांद का दीदार कर लोग ईद-उल-फितर मनाते हैं. ईद-उल-फितर को शव्वाल महीने की शुरुआत भी माना जाता है. जिस दिन चांद दिखाई देता है उसके अगले दिन ईद-उल-फितर मनाया जाता है, जिसे ईद का त्योहार भी कहते हैं. इस्लामिक कैलेंडर लुनर साइकल यानी चांद पर निर्भर करता है. इसलिए ईद की कोई तय तारीख नहीं होती. इस साल यह उम्मीद की जा रही है कि चांद 14 या 15 जून को दिखेगा और ईद 15 या 16 जून को होगी. लेकिन यह पूरी तरह से चांद पर निर्भर करता है. शव्वाल इस्लामिक कैलेंडर का 10वां महीना होता है, जो रमजान महीने के खत्म होने के साथ ही शुरू होता है. ईद उल फितर 2018 तीन दिनों तक मनाया जाता है. त्योहार के शुरू होते ही लोग नये कपड़ों की खरीदारी करते हैं, मिठाईयां तैयार कराते हैं और एक दूसरे को मुबारकबाद देते हैं और दोस्तों के घर जाते हैं.

कब दिखेगा चांद

इंटरनेशनल एस्ट्रोनॉमिकल सेंटर के अनुसार दुनिया के अलग-अलग देशों में चांद को लेकर अलग-अलग कयास लगाए जा रहे हैं. ज्यादातर मुस्लिम देशों में यह माना जा रहा है कि Eid ul-Fitr शुक्रवार 15 जून को मनाया जाएगा.

Eid al-Fitr 2018: क्यों मनाया जाता है और क्या है महत्व, पढ़ें सब कुछ यहां

अरब देशों में कब दिखेगा चांद

चांद के महत्व का अंदाजा आप इस बात से ही लगा सकते हैं कि UAE ने चांद देखने के लिए एक कमेटी तैयार कर दी है. आज यह कमेटी बैठक करने वाली है. ब्रिटेन स्थित HM Nautical Almanac ऑफिस की मानें तो मध्यपूर्वी देशों, उत्तरी अफ्रीका और ब्रिटेन में 15 जून शुक्रवार को चांद देखा जाएगा. कुछ बेहतरीन हालात में ही दक्षिण-पश्चिम साऊदी अरब और उत्तरी अफ्रीका में 14 जून को अर्ध चंद्र देखा जा सकता है. लेकिन इसकी संभावना बहुत ही कम है.

Ruet-e-Hilal रिसर्च के अनुसार पाकिस्तान में शव्वाल का महीना 16 जून से शुरू होगा. नया चांद 14 जून को 00:43 PST बजे देखा जा सकेगा. लेकिन इसकी उम्र 19 घंटे से कम होगी, इसलिए इसे देखा नहीं जा सकेगा. इसलिए ईद का त्योहार शनिवार को ही मनाया जाएगा.