Kamika Ekadashi 2019: कामिका एकादशी इसी सप्‍ताह है. श्रावण मास में आने वाली इस एकादशी का खास महत्‍व है. Also Read - Kamika Ekadashi 2020: कामिका एकादशी पर भूलकर भी ना करें ये काम, बिगड़ सकते हैं बनते हुए काम

कब मनाई जाती है
ये एकादशी श्रावण मास के कृष्ण पक्ष में आती है. ऐसी मान्यता है कि इस दिन भगवान विष्णु की पूजा करने से हर बिगड़े काम बनते हैं. Also Read - Kamika Ekadashi 2020 Date & Timing: 16 जुलाई को मनाई जाएगी कामिका एकादशी, जानें शुभ मुहूर्त और पूजा विधि

कामिका एकादशी 2019 तिथि
इस बार कामिका एकादशी का व्रत 28 जुलाई, रविवार को किया जाएगा. श्रावण मास में आने के कारण इस व्रत का महत्‍व और बढ़ गया है. Also Read - Kamika Ekadashi 2019: ये है उद्यापन विधि, जानें कैसे करें व्रत का पारण...

महत्‍व
मान्‍यता है कि इस व्रत को करने से सभी तरह के कष्ट दूर होते हैं. मोक्ष की प्राप्ति होती है. बिगड़े कार्य बनते हैं और सभी पापों से मुक्ति मिलती है.

व्रत नियम
कामिका एकादशी व्रत का तीन दिन का नियम होता है. यानी दशमी, एकादशी और द्वादशी को कामिका एकादशी के नियमों का पालन होता है.

– इन तीन दिनों के दौरान जातकों को चावल नहीं खाने चाहिए. इसके साथ ही लहसुन, प्याज और मसुर की दाल का सेवन वर्जित है. मांस और मदिरा का सेवन भूल कर भी नहीं करना चाहिए.

– दशमी के दिन एक समय भोजन ग्रहण करना चाहिए और सूर्यास्त के बाद कुछ भी नहीं खाना चाहिए.

– एकादशी के दिन प्रात: काल उठकर भगवान विष्णु की पूजा करनी चाहिए और व्रत का संकल्प लेना चाहिए.

– एकादशी की रात को जागरण करना चाहिए. एकादशी के दिन जागरण करना भी व्रत का ही हिस्सा है.

– द्वादशी के दिन पूजा कर पंडित को यथाशक्ति दान देना चाहिए और उसके बाद पारण करना चाहिए.

– एकादशी के दिन दातुन नहीं करना चाहिए. अपनी उंगली से ही दांत साफ करें. क्योंकि एकादशी के दिन पेड़ पौधों को तोड़ते नहीं है. इस दिन किसी की निंदा नहीं करनी चाहिए.