हर साल लाखों की संख्‍या में श्रद्धालु कांवड़ यात्रा के लिए निकलते हैं. पर इस बार की यात्रा कुछ खास होगी. खबर है कि इस बार इनके लिए खास इंतजाम तो होंगे ही, साथ ही नए नियम भी लागू हो सकते हैं.

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने आगामी कांवड़ यात्रा के मद्देनजर अधिकारियों को श्रद्धालुओं की सुरक्षा सुनिश्चित करने का निर्देश दिया है. एक महीने तक चलने वाली यात्रा 17 जुलाई को हिंदू माह सावन की शुरुआत के साथ शुरू होगी.

अधिकारियों को यात्रा के मार्ग में पड़ने वाली सड़कों को साफ करने और श्रद्धालुओं पर हैलीकॉप्टर से फूल बरसाने और यात्रा की प्रगति पर निगरानी रखने के भी निर्देश दिए गए हैं.

आदित्यनाथ ने यह भी कहा कि डीजे पर प्रतिबंध नहीं लगेगा लेकिन उन सिर्फ भजन बजने चाहिए और फिल्मी गाने बजाने की अनुमति नहीं होगी.

डीजे के उपयोग पर हिंदुओं और मुस्लिमों के बीच हमेशा से विवाद रहा है और पूर्ववर्ती अखिलेश यादव की सरकार ने यात्रा के दौरान डीजे पर प्रतिबंध लगा दिया था.

मुख्यमंत्री ने अधिकारियों को किसी भी अनचाही परिस्थिति से बचने के लिए एक-दूसरे के साथ समन्वय के लिए प्रत्येक जोन, जिला और संभाग में अंतर्विभागीय बैठक करने के निर्देश दिए हैं.

स्वच्छता की महत्ता पर जोर देते हुए आदित्यनाथ ने अधिकारियों को यात्रा के दौरान थर्मोकोल और पॉलीथिन के उपयोग पर प्रतिबंध लगाने का निर्देश दिया.

उन्होंने कहा कि सुरक्षा के विशेष कदम उठाए जाने चाहिए और श्रद्धालुओं की गरिमा सुनिश्चित होनी चाहिए. उन्होंने कहा कि सभी प्रबंध कुंभ की तरह होने चाहिए.

आदित्यनाथ ने इसके बाद अधिकारियों से उनके क्षेत्र के शिव मंदिरों को पहचानने तथा वहां स्वच्छता, उचित पेयजल, बिजली और मंदिरों की सुरक्षा सुनिश्चित करने के निर्देश दिए.

कांवड़ यात्रा के दौरान यात्रा मार्ग में शराब तथा अवैध बूचड़खानों के संचालन पर प्रतिबंध रहेगा. चूंकि इस साल बकरीद (ईद-उल-जुहा) और सावन का अंतिम सोमवार एक ही दिन 12 अगस्त को पड़ रहा है, इसलिए मुख्यमंत्री ने अधिकारियों को उचित सुरक्षा व्यवस्था का इंतजाम सुनिश्चित करने के लिए कहा है.

उन्होंने कहा कि इस दौरान अराजक तत्वों पर नजर रखने के लिए भीड़ भरे स्थानों पर सीसीटीवी कैमरे लगाए जाएंगे.