नई दिल्ली: आज यानी 4 नवंबर 2020 को करवा चौथ है. यह दिन महिलाओं के लिए काफी जरूरी होता है. इस दिन महिलाएं पति की लंबी उम्र के लिए निर्जल व्रत रखती हैं. यूं तो हिंदू धर्म में महिलाओं के अनेक त्योहार आते हैं लेकिन करवा चौथ का खास महत्व माना जाता है. इस दिन महिलाएं दिनभर व्रत रखती हैं और शाम को चांद को अर्घ्य देकर पति की की पूजा करके व्रत खोलती हैं. यह व्रत चंद्र दर्शन के साथ खोला जाता है. लेकिन व्रत रखने वालीमहिलाओं को चंद्र दर्शन से पहले कुछ सावधानियां जरूर बरतनी चाहिए. आइए जानते हैं- Also Read - बिपाशा बसु को आई पिछले करवा चौथ की याद, बताया - उस वक्त क्यों सड़क पर खोलना पड़ा था व्रत

– इस व्रत में चांद देखने से पहले यदि महिलाएं सास, मां या अन्य किसी बुजुर्ग का अनादर करती हैं तो यह व्रत पूरा नहीं माना जाता है. क्योंकि इस व्रत में पति की कामना के साथ ही बड़े-बुजुर्गों का भी महत्व होता है. Also Read - Karwa Chauth 2020 Chand Live: ये है करवा चौथ पूजन का शुभ मुहूर्त, जानें अलग-अलग जगहों पर कितने बजे दिखेगा चांद

– इस व्रत के दिन विवाहित महिलाएं चांद देखने से पहले किसी को भी दूध, दही, चावल, सफेद कपड़ा या कोई भी सफेद वस्तु न दें. माना जाता है कि ऐसा करने से चंद्रमा नाराज हो जाते हैं और अशुभ फल देते हैं. Also Read - Karwa Chauth 2020: नेहा कक्कड़ से काजल अग्रवाल तक, इन हस्तियों का होगा पहला करवा चौथ- SEE LIST

– इस दिन गेहूं अथवा चावल के 13 दानें हाथ में लेकर कथा सुननी चाहिए. मिट्टी के करवे में गेहूं, ढक्कन में चीनी एवं उसके ऊपर वस्त्र आदि रखकर सास, जेठानी को देना चाहिए.

– व्रत रखने वाली स्त्री को काले और सफेद कपड़े पहनने से बचना चाहिए. इस दिन लाल और पीले रंग के कपड़े पहनना विशेष फलदायी होता है.