Kharmas 2019: खरमास इस बार 16 दिसंबर, 2019 से लग रहा है जो कि मकर संक्रांति यानि 15 जनवरी, 2020 को खत्म होगा. खरमास में शादी-विवाह के साथ-साथ सभी तरह के शुभ कार्य बंद हो जाते हैं. ज्योतिष के अनुसार, सूर्य हर एक राशि में पुरे एक महीने या 30 से 31 दिन के लिए रहता है. 12 महीनों में सूर्य ज्योतिष की 12 राशियों में प्रवेश करता है. 12 राशियों में भ्रमण करते हुए जब सूर्य देव गुरु बृहस्पति की राशि धनु या मीन में प्रवेश करता है तो उस स्थिति को खरमास कहते हैं. इसकी शुरुआत 16 दिसंबर 2019 दिन सोमवार से हो रही है. Also Read - Sunlight Effects During Pregnancy: प्रेग्नेंट हैं तो गलती से भी ना निकले धूप में, बच्चे के लिए हो सकता है काफी नुकसानदायक

Also Read - कोरोना को गर्म तापमान, सूरज की रोशनी कर सकता है खत्म, व्हाइट हाउस के शोध में यह बात आई सामने

खरमास 2019: कब लग रहा खरमास और कब होगा खत्म, इन दिनों भूलकर भी न करें ये काम Also Read - Makar Sankranti 2020: मकर संक्रांति के दिन राशि के अनुसार जरूर करें इन चीजों का दान, चमकेगा भाग्य

खरमास में न करें ये काम

खरमास को ज्योतिष के अनुसार शुभता का समय नहीं माना जाता है. खरमास में क्रोध और उग्रता की अधिकता होती है. साथ ही इस दौरान सभी में विरोधाभास और वैचारिक मतभेद के साथ मानसिक बेचैनी भी अधिक देखने को मिलती है. ऎसे में कुछ शुभ कार्यों को इस समय करने की मनाही बताई गई है. खरमास में शादी-विवाह के कार्य नहीं करने की सलाह दी जाती है. इस समय विवाह इत्यादि होने पर संबंधों में मधुरता की कमी आ सकती है और किसी न किसी कारण सुख का अभाव बना रहता है. खरमास में कोई मकान इत्यादि खरीदना या कोई संपत्ति की खरीद करना शुभता वाला नहीं माना जाता है. इस मास के दौरान नया वाहन भी नहीं खरीदना चाहिए. अगर इस समय पर कोई वाहन इत्यादि की खरीद की जाती है तो उक्त वाहन से संबंधित कष्टों को झेलना पड़ सकता है.

Paush Maas 2019: पौष मास में करें ये काम, सूर्य की तरह चमकेगा आपका भाग्य

खरमास में करें ये काम

खरमास में सूर्य का गुरु की राशि में गोचर होने के कारण ये समय पूजा-पाठ के लिए उपयोगी होता है. इस समय मंत्र जाप इत्यदि काम करना उत्तम माना गया है. अनुष्ठान से जुड़े काम इस समय किए जा सकते हैं. इस समय के दौरान पितरों से संबंधित श्राद्ध कार्य करना भी अनुकूल माना गया है. दान इत्यादि करना इस मास में शुभ फल दायक बताया गया है. खर मास के दौरान जल का दान भी बहुत महत्व रखता है इस समय के दौरान पवित्र नदियों में स्नान का महत्व बताया जाता है. इस समय पर ब्रह्म मूहूर्त समय किए गए स्नान को शरीर के लिए बहुत उपयोगी माना गया है.

Festivals List: यहां पढ़िए दिसंबर महीने में पड़ने वाले सभी त्यौहारों की पूरी लिस्ट

कब लग रहा खरमास या मलमास

खरमास प्रारंभ: 16 दिसंबर 2019 सोमवार रात्रि 12:37 बजे

खरमास समाप्त: 15 जनवरी 2020 बुधवार प्रात: 08:24 बजे

धर्म की और खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करे