Kharmas 2020: होली के बाद अब खरमास लगने जा रहा है. खरमास शुरू होते ही पूरे एक महीने के लिए शुभ कार्यों जैसे विवाह, मुंडन, गृह प्रवेश, नए कारोबार का आरंभ आदि पर रोक लग जाएगी. Also Read - Kharmas 2020: आज से खरमास शुरू, एक माह के समय में बरतें ये सावधानियां, क्‍या करें-क्‍या नहीं

जानिए क्या है खरमास या मलमास 

 

ज्योतिष के अनुसार, सूर्य हर एक राशि में पुरे एक महीने या 30 से 31 दिन के लिए रहता है. 12 महीनों में सूर्य ज्योतिष की 12 राशियों में प्रवेश करता है. 12 राशियों में भ्रमण करते हुए जब सूर्य देव गुरु बृहस्पति की राशि धनु या मीन में प्रवेश करता है तो उस स्थिति को खरमास कहते हैं. सूर्य के धनु राशि में प्रवेश करने पर सभी शुभ कार्य एक महीने के लिए बंद हो जाते हैं. साल में दो बार ऐसा समय आता है जब सूर्य के राशि में प्रवेश करने पर शुभ कार्य बंद हो जाते हैं.

Kharmas 2020 March

 

खरमास या मलमास को सूर्य से संबंधित माना जाता है. 14 मार्च को सूर्यदेव मीन राशि में प्रवेश करेंगे इसलिए 14 मार्च से लेकर 13 अप्रैल तक खरमास का समय रहेगा.

खरमास पर क्या करें

 

खरमास के दिनों में सूर्य उपासना को काफी महत्‍वपूर्ण माना गया है. खास तौर पर उन लोगों के लिए जिनकी कुंडली में सूर्य शुभ नही हैं. इस समयकाल में दान-पुण्य का विशेष महत्व है. इन दिनों में किए गए दान का कई गुना फल प्राप्‍त होता है. इसलिए खरमास के दौरान जितना संभव हो सके गरीबों, असहायों और जरूरतमंदों को दान करना चाहिए.

खरमास पर क्‍या ना करें

 

खरमास के दौरान शुभ कार्यों पर पूरी तरह से रोक लग जाती है. इस दौरान विवाह आदि कार्य नहीं होते. किसी नए कार्य की शुरुआत भी करना वर्जित माना गया है. इसके अलावा सगाई, गृह निर्माण, गृह प्रवेश, नए कारोबार का प्रारंभ नहीं करना चाहिए. मान्यता है कि इन दिनों मे प्रारंभ किए गए काम का अच्छा फल प्राप्त नहीं होता.