Krishna Janmashtami 2019 पर भगवान कृष्‍ण की पूजा होती है. लोग कान्‍हा जन्‍म का उत्‍सव मनाते हैं. एक-दूसरे को बधाई संदेश भेजते हैं.

अगर ये संदेश हिंदी में हों तो कहने ही क्‍या.

Krishna Janmashtami 2019: यहां देखें श्रीकृष्‍ण पूजन सामग्री की List, शुरू करें तैयारियां…

देखें-

Krishna Janmashtami 2019: जानें कृष्‍ण जन्‍माष्‍टमी तिथि, इस बार 45 मिनट का पूजन मुहूर्त…

जन्‍माष्‍टमी महत्‍व
भादो मास के कृष्ण पक्ष की अष्टमी को जो त्योहार मनाया जाता है, उसे कृष्ण जन्माष्टमी के नाम से जानते हैं. अष्टमी के दिन कृष्ण का जन्म हुआ था, इसलिए इसे कृष्ण जन्माष्टमी कहा जाता है. पौराणिक कहानियों के अनुसार श्री कृष्ण का जन्म रोहिणी नक्षत्र में मध्यरात्रि को हुआ था. इसलिए भाद्रपद मास में आने वाली कृष्ण पक्ष की अष्टमी को यदि रोहिणी नक्षत्र का भी संयोग हो तो वह और भी शुभ माना जाता है.

क्‍यों करें व्रत
ऐसी मान्यता है कि इस दिन श्री कृष्ण की पूजा करने से सभी दुखों व शत्रुओं का नाश होता है और जीवन में सुख, शांति व प्रेम आता है. इस दिन अगर श्री कृष्ण प्रसन्न हो जाएं तो संतान संबंधित सभी विपदाएं दूर हो जाती हैं. श्री कृष्ण जातकों के सभी कष्टों को हर लेते हैं.