लखनऊ: कुंभ 2019 का आगाज प्रयागराज में बस कुछ ही दिनों में होने वाला है. तीर्थराज के रूप में जाना जानेवाला प्रयागराज दुनिया का एकमात्र ऐसा स्‍थान है, जहां पर तीन-तीन नदियां यानी गंगा, यमुना और अदृश्य सरस्‍वती मिलती है और यही से अन्‍य नदियों का अस्तित्‍व समाप्‍त होकर आगे एकमात्र गंगा का महत्‍व बाकी रह जाता है. ऋषियों-देवताओं ने जिस त्रिवेणी संगम में स्‍नान कर अपने आपको धन्‍य माना है, उस प्रयागराज में 15 जनवरी से चार मार्च 2019 तक कुंभ होने जा रहा है. ऐसे में अगर आप भी कुंभ आने का प्‍लान बना रहे हैं तो यह खबर आपके काम की है. कुंभ स्‍नान के बाद प्रयागराज में आप इन जगहों पर घूमने जा सकते हैं, जिससे आपका ये सफर हमेशा के लिए यादगार बन सकेगा. तो आइए जानते हैं वो जगह, जहां आप घूम सकते हैं:-

Kumbh 2019: जानिए कब से शुरू हो रहा कुंभ, प्रयागराज की महत्‍ता व स्‍नान की तारीख भी देखें

संकटमोचन हनुमान मंदिर

hanuman-mandir
प्रयागराज स्थित दारागंज मोहल्ले में गंगा जी के किनारे संकटमोचन हनुमान मंदिर है. यह कहा जाता है कि संत समर्थ गुरु रामदास जी ने यहां भगवान हनुमान जी की मूर्ति स्थापित की थी. शिव-पार्वती, गणेश, भैरव, दुर्गा, काली एवं नवग्रह की मूर्तियां भी मंदिर परिसर में स्थापित हैं. निकट में श्री राम जानकी मंदिर एवं हरित माधव मंदिर हैं.

Kumbh 2019: कुंभ में ये अखाड़े लगाते हैं आस्‍था की डुबकी, जानें इनका पूरा इतिहास

भारद्वाज आश्रम

bharadwaj aashram
मुनि भारद्वाज से सम्बद्ध यह एक प्रसिद्ध धार्मिक स्थल है. मुनि भारद्वाज के समय यह एक प्रसिद्ध शिक्षा केन्द्र था. कहा जाता है कि भगवान राम अपने वनवास पर चित्रकूट जाते समय सीता जी एवं लक्ष्मण जी के साथ इस स्थान पर आये थे. वर्तमान में वहां भारद्वाजेश्वर महादेव मुनि भारद्वाज, तीर्थराज प्रयाग और देवी काली इत्यादि के मंदिर हैं. निकट ही सुन्दर भारद्वाज पार्क एवं आनन्द भवन है.

Kumbh 2019: प्रयागराज कुंभ के ये हैं मुख्य आकर्षण, मेले में आने से पहले जरूर पढ़ें…

शंकर विमान मण्डपम

Shankar viman Mandapam
दक्षिण भारतीय शैली का यह मंदिर चार स्तम्भों पर निर्मित है. जिसमें कुमारिल भट्ट, जगतगुरु आदि शंकराचार्य, कामाक्षी देवी (चारों ओर 51 शक्ति की मूर्तियां के साथ), तिरूपति बाला जी (चारों ओर 108 विष्णु भगवान) और योगशास्त्र सहस्त्रयोग लिंग (108 शिवलिंग) स्थापित है.

श्री अखिलेश्वर महादेव

akhileshwar-mahadev
चिन्मय मिशन के अधीन प्रयागराज (पूर्व में इलाहाबाद) में रसूलाबाद घाट के निकट 500 वर्ग फिट के लगभग एक क्षेत्र में श्री अखिलेश्वर महादेव संकुल फैला हुआ है. आधारशिला 30 अक्टूबर, 2004 को चिन्मय मिशन के परमपूज्य स्वामी तेजोमयनन्दजी एवं पूज्य स्वामी सुबोधानन्द जी के द्वारा रखी गयी थी. आधार तल से ऊपर राजस्थान से गुलाबी पत्थर मंगा कर कटाई की जा रही है और श्री अखिलेश्वर महादेव ध्यान मण्डपम को आकार प्रदान करने के लिये लगाये जा रहे हैं. आधार पर लगभग 300 व्यक्तिगण की क्षमता वाली एक सत्संग भवन हेतु निर्मित किया गया है और श्री अखिलेश्वर महादेव के लिये समस्त आवश्यक सेवायें उपलब्ध है.

Kumbh Mela 2019: कैसे पहुंचे प्रयागराज, जानें दिल्‍ली से इलाहाबाद का हवाई किराया

दशाश्वमेघ मंदिर
यह दारागंज में गंगा नदी के किनारे स्थित शहर के तटीय क्षेत्रों में से एक है. कहा जाता है कि भगवान बह्मा जी ने यहां अश्वमेघ यज्ञ किया था. दशाश्वमेघेश्वर महादेव-शिवलिंग, नंदी, शेषनाग की मूर्तियां एवं एक बड़ा त्रिशूल मंदिर में स्थापित किये गये हैं. चैतन्य महाप्रभु की स्मृति में उनके पदचिन्हों की बिम्ब धारित करती हुई एक संगमरमर की पट्टी भी यहां लगी हुई है. इस मंदिर के निकट में ही देवी अन्नपूर्णा भगवान हनुमान एवं भगवान गणेश के मंदिर हैं.

कुंभ 2019: यूपी सरकार के मंत्री बोले- मेले में भगवान को ‘भांग’ का प्रसाद चढ़ाने पर रोक नहीं

तक्षकेश्वर नाथ मंदिर
तक्षकेश्वर भगवान शंकर का मंदिर है जो प्रयागराज की दक्षिण दिशा में स्थित दरियाबाद मोहल्ले में यमुना तट पर स्थित है. इससे थोड़ी दूर पर यमुना में तक्षकेश्वर कुंड है. जन श्रुति यह है कि तक्षक नाग ने भगवान कृष्ण द्वारा मथुरा से भगाये जाने के पश्चात् यहीं शरण ली थी.

श्री वेणी माधव

veni madhav
पद्मपुराण में वर्णन के अनुसार लोकमान्यता है कि सृष्टीकर्ता ब्रह्मा जी प्रयागराज की धरती पर जब यज्ञ कर रहे थे तब उन्होंने प्रयागराज की सुरक्षा हेतु भगवान विष्णु से प्रार्थना कर उनके बारह स्वरूपों की स्थापना करवाई थी. प्रयागराज के बारह माधव मंदिरों में सर्वप्रसिद्ध श्री वेणी माधव जी का मंदिर दारागंज के निराला मार्ग पर स्थित है. मन्दिर में शालिग्राम शिला निर्मित श्याम रंग की माधव प्रतिमा गर्भगृह में स्थापित है. श्री वेणी माधव को ही प्रयागराज का प्रधान देवता भी माना जाता है. यहाँ वर्ष भर श्रधालुओं का ताँता लगा रहता है. श्री वेणी माधव के दर्शन के बिना प्रयागराज की यात्रा एवं यहाँ होने वाली पंचकोसी परिक्रमा को पूर्ण नहीं कहा जा सकता. चैतन्य महाप्रभु जी स्वयं अपने प्रयागराज प्रवास के समय यहाँ रह कर भजन-कीर्तन किया करते थे.

Kumbh 2019: कुंभ में आने वाले नागा साधुओं के बारे में वो बातें, जिससे आप भी होंगे अंजान

विक्टोरिया स्मारक

Victoria memorial
रानी विक्टोरिया को समर्पित इटालियन चूना पत्थर से निर्मित यह स्मारक स्थापत्य कला का एक जीवंत उदाहरण है. इसे 24 मार्च, 1906 को जेम्स डिगेस ला टच के द्वारा 1906 में खोला गया था. त्रिकोणात्मक रचना में कभी रानी विक्टोरिया की बड़ी मूर्ति लगी हुई थी जो वर्तमान समय में वहाँ नहीं हैं.

Kumbh 2019: प्रयाग आने वाली 800 विशेष ट्रेनों पर लिखा रहेगा ‘कुंभ चलो’, साधुओं की तस्वीरों से सजे होंगे डब्बे

गंगा गैलरी (राष्ट्रीय विज्ञान अकादमी)

Ganga gallery
5, लाजपत राय मार्ग, नया कटरा स्थित यह गैलरी गंगा नदी की धार्मिक, सांस्कृतिक, सामाजिक-आर्थिक एवं वैज्ञानिक पक्ष को प्रकाशित करने के लिये एक वैज्ञानिक दृष्टि का प्रयोग करती है. वैज्ञानिक दृष्टि का प्रयोग करती है.

प्रयाग कुंभ 2019 को लेकर बना ऐसा प्‍लान, मेले से लौटकर भी ताजा रहेगी आपकी याद

प्रयाग संगीत समिति

prayag-sangeet
यह वर्ष 1926 में भारतीय जन मानस में भारतीय शास्त्रीय संगीत पढ़ाने और लोकप्रिय बनाने की सोंच के साथ स्थापित किया गया था. यह संस्था भारतीय समितियां अधिनियम संख्या (गत, वर्ष 1860) के अधीन पंजीकृत है. समिति का मूल उद्देश्य गायन, वादन एवं नृत्य को सम्मिलित करते हुए संगीत कला की प्रतिष्ठा को सदैव पुनर्जीवित रखनातथा भारत व विदेशों में भी इस कला में व्यवस्थित प्रशिक्षण प्रदान करना है, इसके अलावा इसे अधिकतम लोगों तक पहुंचाना है. इस बिन्दु को दृष्टिगत रखकर समिति श्रद्धापूर्वक आज तक महत्वपूर्ण कार्य करने में संलिप्त है.

GOOD NEWS: कुंभ से पहले इलाहाबाद और लखनऊ के बीच चलेगी सुपरफास्ट ट्रेन, दिल्‍ली के लिए अंत्‍योदय

इलाहाबाद विश्वविद्यालय

allahabad uni
इलाहाबाद विश्वविद्यालय को एक शताब्दी से अधिक समय तक भारत के विश्वविद्यालयों के मध्य एक सम्मानित स्थान प्राप्त है. 23 सितम्बर, 1887 को स्थापित यह कलकत्ता, बाम्बे और मद्रास विश्वविद्यालय के पश्चात् चौथा पुराना विश्वविद्यालय है. प्रयागराज में एक बड़े केन्द्रीय कालेज की स्थापना एवं इसे एक विश्वविद्यालय के रूप में विकसित करने का श्रेय सर विलियम म्योर को जाता है जो यूनाइटेड प्राविन्स के लेफ्टिनेंट गवर्नर थे. उनके प्रयासों के परिणामस्वरूप म्योर सेन्ट्रल कालेज की आधारशिला 9 दिसम्बर, 1873 को वायसराय लार्ड नार्थब्रुक के द्वारा रखी गयी थी. विजय नगरम हाल, सीनेट हाल (दरबार हाल), एस0एस0एल0 हास्टल, इलाहाबाद विश्वविद्यालय की बड़ी इमारतें हैं.

कुंभ मेला: हेलीकॉप्टर से संगम नगरी दिखाने की तैयारी में योगी सरकार

पब्लिक लाइब्रेरी

central-library
शहर की सबसे पुरानी लाइब्रेरी चन्द्रशेखर आजाद पार्क परिसर के भीतर स्थित है. इसमें ऐतिहासिक पुस्तकों, पाण्डुलिपियों एवं पत्रिकाओंका बृहद संग्रह है. इस लाइब्रेरी को चैथम लाइन्स क्षेत्र में 1864 में स्थापित किया गया था, वर्तमान भवन का वर्ष 1878 में निर्माण के पश्चात् लाइब्रेरी को यहां स्थानान्तरित किया गया था. इस दर्शनीय भवन का एक अन्य गरिमामयी अध्याय भी है. यहां राज्य की प्रथम विधान सभा ने अपनी प्रथम बैठक इसी भवन में 8 जनवरी, 1887 को किया था. लार्ड थार्नहिल एवं माइन की स्मृति में निर्मित यह भवन गोथिक आर्कीटेक्चर का एक सुन्दर उदाहरण है.

धर्म से जुड़ी अन्य खबरों को पढ़ने के लिए धर्म पर क्लिक करें.