लखनऊ: Kumbh Mela 2019 का आगाज 15 जनवरी से होने जा रहा है. ऐसे में अगर आप भी कुंभ आने का प्‍लान बना रहे हैं तो यह खबर आपके काम की है. कुंभ मेले को लेकर वैसे तो शास्त्रों में बहुत सारे नियमों को बताया गया है, लेकिन लोग सभी का पालन नहीं करते. ऐसे में उनका कुंभ में आना सिर्फ पर्यटन ही होता है. कुछ ऐसी भी बातें हैं जो कुंभ में जाने से पहले जरूर जान लेनी चाहिए. कुंभ में कुछ ऐसे कार्य होते हैं, जिन्‍हें भूलकर भी नहीं करना चाहिए, साथ ही कुछ ऐसे कार्य बताए गए हैं जिनको करने से आपको कुंभ यात्रा का पूरा फल मिलता है. तो आईए जानें कि कुंभ यात्रा के दौरान क्‍या करें और क्‍या न करें:-

Kumbh 2019: कुंभ में आने वाले नागा साधुओं के बारे में वो बातें, जिससे आप भी होंगे अंजान

कुंभ में क्या करें

  • कुंभ यात्रा के दौरान जप, दान, उपवास, पूजा-पाठ इत्यादि के मुख्य कर्म होते हैं उन्हें जानकर करें.
  • कुंभ में प्रतिदिन ब्रह्म मुहूर्त में जागने के बाद सुबह और शाम को संध्या वंदन जरूर करें.
  • मुंडन कराने के बाद पींड दान करने का महत्व है.
  • कुंभ आने पर हो सके तो कल्पवास का संकल्प लें.
  • कुंभ के सभी स्नान पूर्ण करके ही जाएं.
  • कुंभ में आते समय हल्के सामान के साथ यात्रा करें. यदि डाक्टर के द्वारा सलाह दी गयी है तो दवायें साथ लायें.
  • अस्पताल, खाद्य एवं आकस्मिक सेवायें इत्यादि सुविधाओं की जानकारी रखें.
  • आकस्मिक सम्पर्क नंबर की जानकारी रखें.
  • केवल उन्ही स्नान क्षेत्रों/घाटों का उपयोग करें जो मेला द्वारा प्राधिकृत किये गये हैं.
  • उपलब्ध शौचालयों एवं मूत्रालयों का उपयोग करें.
  • कचरा निस्तारण हेतु डस्टबिन का उपयोग करें.
  • मार्ग खोजने के लिये पथ प्रदर्शक बोर्ड का उपयोग करें.
  • वाहनों को खड़ा करने के लिये पार्किंग स्थलों का उपयोग करें और यातायात नियमों का पालन करें.
  • मेला क्षेत्र व शहर में रूकने के लिये स्थान के निकटतम स्नान घाटों का उपयोग करें.
  • यदि कोई अपरिचित या संदिग्ध वस्तु पायी जाती है तो पुलिस या मेला प्रशासन को सूचित करें.
  • कोई यात्रा योजना बनाते समय अतिरिक्त समय शामिल करें.

Kumbh 2019: कुंभ स्‍नान के बहाने प्रयागराज की इन जगहों का भी करें भ्रमण, यादें रहेंगी ताजा

क्‍या न करें

  • कुंभ यात्रा में भूलकर भी किसी साधु-संत का अपमान नहीं करना चाहिए, अगर कोई ऐसा करता है तो वह अगले जन्‍म में निम्‍न योनियों में पैदा होता है.
  • त्रिवेणी संगम आने वालों को कभी भी बैल, भैंसा पर चढ़कर नहीं आना चाहिए, ऐसा करने वाला नरकवासी बनता है.
  • कुंभ में आते समय मूल्यवान, अनावश्यक खाद्य पदार्थ, कपड़े एवं सामान न लाएं.
  • नदी में स्‍नान करते समय पेशाब करना महापाप माना गया है. इस संबंध में बच्चों को हिदायत दें.
  • यात्रा के दौरान किसी अजनबी पर विश्वास न करें. अप्राधिकृत स्थानों पर भोज्य ग्रहण न करें.
  • उकसाने वाली बात करके अनावश्यक संघर्ष आमांत्रित न करें.
  • स्‍नान करते समय अनुमन्य सीमाओं से परे नदी में जाने का साहस न करें.
  • साबुन, डिटरर्जेंट का उपयोग सफाई/धुलाई के प्रयोजनार्थ करते हुए या पूजन सामग्री को फेंकते हुए नदियों को प्रदूषित न करें.
  • लाइन और नियमों का उल्लंघन ना करें। ऐसे करने से सभी को परेशानी होगी और कुंभ में अव्यवस्था फैल जाएगी.
  • कहीं पर भी रुककर तमाशा देखने वाली भीड़ में शामिल ना होएं। भीड़ में शामिल ना होंगे तो खुद को सुरक्षित रख पाएंगे.

Kumbh Mela 2019: बिना कपड़ों के भस्‍म रमाए क्‍यों घूमते हैं नागा साधु? किन कठिन नियमों पर जीते हैं?

धर्म की और खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें.