प्रयाग: प्रयागराज में माघी पूर्णिमा स्नान के लिए रात 12 बजे से ही संगम तट पर श्रद्धालु पहुंच गए हैं. मेला प्रशासन ने इस पर्व पर एक करोड़ 60 लाख लोगों के स्नान का अनुमान लगाया है. मेलाधिकारी विजय किरण आनंद की मानें तो संगम में स्नान के लिए सोमवार से ही श्रद्धालुओं का रेला उमड़ पड़ा है.Also Read - 8th International Yoga Day: योग की इससे खूबसूरत तस्वीरें आपने नहीं देखी होंगी

Also Read - प्रयागराज हिंसा मामले में बड़ा खुलासा, बवाल से पहले 300 मोबाइल नंबर व 150 गाड़ियां मिली संदिग्ध

Also Read - 'समुदाय विशेष को टारगेट करना गलत', योगी सरकार के बुलडोजर एक्शन पर बिफरीं मायावती

किरन आनंद ने बताया कि कई जिलों के मजिस्ट्रेट और पुलिस बल की तैनाती कर दी गई है. मजिस्ट्रेट को निर्देश दिए गए हैं कि वे आवश्यकतानुसार अतिरिक्त फोर्स भी ले सकते हैं. सभी जगह निगरानी की जा रही है. सुरक्षा व्यवस्था कड़ी की गई है. मेलाधिकारी ने बताया कि मेला क्षेत्र में 96 कंट्रोल वॉच टावर स्थापित हैं. 440 सीसीटीवी कैमरों की मदद से निगरानी की जा रही है. पुलवामा हमले के बाद प्रशासन मेला क्षेत्र में सुरक्षा व्यवस्था को लेकर पहले से ज्यादा अलर्ट है. उन्होंने बताया कि त्रिवेणी स्नान के लिए सुबह से श्रद्धालुओं का तांता लगा हुआ है. रेलगाड़ियों से आने वालों की भीड़ सीमित है, जबकि निजी वाहन जैसे ट्रैक्टर, जीप, बस आदि से 90 प्रतिशत श्रद्धालु संगम पहुंच रहे हैं.

Maghi Purnima 2019: माघी पूर्णिमा कब है, जानिए इस दिन का महत्‍व

कुंभ मेले के डीआईजी केपी सिंह ने बताया कि पुलिस व्यवस्था चुस्त-दुरुस्त है और यातायात की विशेष निगरानी की जा रही है. माघी पूर्णिमा पर आने वाले स्नानार्थी अपने वाहन को निर्धारित पाकिर्ंग पर ही खड़ा करें. मेला प्रशासन की सबसे बड़ी जिम्मेदारी श्रद्धालुओं को स्नान के बाद सुरक्षित उनके गंतव्य तक भेजने की सुविधा देना है.

चारधाम यात्रा 2019: कब खुलेंगे बद्रीनाथ धाम के कपाट, जानिए यहां का ऐतिहासिक महत्‍व

Kumbh 2019: प्रयागराज कुंभ के ये हैं मुख्य आकर्षण, मेले में आने से पहले जरूर पढ़ें…