Kumbh Mela 2019: चार मार्च को महाशिवरात्रि के दिन प्रयाग कुंभ 2019 का आखिरी प्रमुख स्‍नान है. ऐसे में कुंभ मेले में लोगों की भीड़ और बढ़ गई है. संगम से लेकर परेड मैदान तक हर ओर श्रद्धालुओं का तांता लगा हुआ है. ज्यादातर भीड़ स्नान घाटों, झूलों और मीना बाजार में लग रही है. भीड़ का आलम यह है कि चौराहों से गुजर पाना मुश्किल है.

Mahashivratri 2019: कब है महाशिवरात्रि, जानिए शुभ मुहूर्त, व्रत का महत्व और पूजन विधि

दिव्य और भव्य कुंभ के प्रचार की वजह से इस बार जबर्दस्त भीड़ मेले में आ रही है. मेला क्षेत्र से जुड़े लोगों का कहना है कि अब तक किसी भी मेले में माघी
पूर्णिमा के बाद भीड़ नहीं दिखती थी लेकिन यह पहला कुंभ है कि श्रद्धालुओं का रेला टूटने का नाम नहीं ले रहा. प्रयागराज मेला प्राधिकरण आरती समिति के आचार्य प्रदीप पांडेय का कहना है कि 2013 के कुंभ का मेला हो या आम माघ मेला, माघी पूर्णिमा के बाद आमतौर पर भीड़ नहीं दिखती थी. लेकिन इस बार श्रद्धालुओं के आने और स्नान करने का सिलसिला बना हुआ है.

Kumbh 2019: प्रयागराज कुंभ के ये हैं मुख्य आकर्षण, मेले में आने से पहले जरूर पढ़ें…

श्रद्धालुओं को मीडिया के जरिए मिली कुंभ की बेहतर जानकारी
श्रद्धालुओं का कहना है इस बार मीडिया के जरिए कुंभ की बेहतर जानकारी मिली, इसलिए महाशिवरात्रि के पहले एक बार मेला देखने आए हैं. एक श्रद्धालु ने बताया कि वह पिछले कुंभ मेलों में अखाड़ों और शाही स्नान में आ चुके हैं. भीड़ बहुत होती है. उन्हें पता है कि मेले की सरकारी सजावट और व्यवस्थाएं महाशिवरात्रि तक रहती हैं. ऐसे में पूर्णिमा के बाद आए थे ताकि भीड़ कम हो लेकिन यहां आकर भीड़ ही भीड़ मिल रही है. उन्होंने कहा कि यहां पर व्यवस्थाएं आज भी बहुत अच्छी हैं. परेड क्षेत्र में लगाए गए श्लोक उन्हें सबसे ज्यादा अच्छे लगे.

Kumbh 2019: कुंभ में आने वाले नागा साधुओं के बारे में वो बातें, जिससे आप भी होंगे अंजान