Kumbh Mela 2019: प्रयाग कुंभ मेले का आखिरी प्रमुख स्नान चार मार्च को महाशिवरात्रि के दिन होगा. इसके साथा ही कुंभ मेले का समापन भी होगा. कुंभ मेले में अखाड़ों के साधु संतों व कल्पवासियों के जाने के बाद भी स्नान करने वालों की भीड़ कम नहीं हो रही है. रोजाना सुबह से शाम तक संगम समेत सभी घाटों पर श्रद्धालु स्नान करने के लिए जुट रहे हैं. प्रशासन के आंकड़ों की माने तो गुरुवार को भी तकरीबन 16 लाख लोगों ने गंगा में डुबकी लगाई.

चारधाम यात्रा 2019: कब खुलेंगे बद्रीनाथ धाम के कपाट, जानिए यहां का ऐतिहासिक महत्‍व

कुंभ क्षेत्र में रोजाना 15 से 20 लाख स्नानार्थी संगम समेत अन्य घाटों पर डुबकी लगा रहे हैं. गुरुवार को सुबह चार बजे से घाटों पर स्नान शुरू हो गया था. कुछ घंटों में ही करीब पांच लाख लोगों ने स्नान कर लिया. इसके बाद दोपहर दो बजे तक यह आंकड़ा 12 लाख से ऊपर पहुंच गया. शाम पांच बजे तक तकरीबन 15 लाख लोग संगम में डुबकी लगा चुके थे.

Kumbh 2019: प्रयागराज कुंभ के ये हैं मुख्य आकर्षण, मेले में आने से पहले जरूर पढ़ें…

परिवार के नाम की लगाई डुबकी
संगम स्नान करने आए स्नानार्थियों ने खुद तो संगम में डुबकी लगाई ही परिवार के जो लोग किसी कारणवश नहीं आ सके, उनके नाम की भी डुबकी लगाकर पुण्य लाभ अर्जित किया. स्नान करने आने वालों में कई ऐसे भी हैं जो प्रमुख स्नान पर्वों पर कुंभ नहीं आ सके थे.

Kumbh 2019: कुंभ में आने वाले नागा साधुओं के बारे में वो बातें, जिससे आप भी होंगे अंजान

धर्म की और खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें.