प्रयागराज: कुंभ मेले के तीसरे और अंतिम शाही स्नान बसंत पंचमी पर्व पर शनिवार को सुबह आठ बजे से ही श्रद्धालुओं ने स्नान करना शुरू कर दिया और शाम चार बजे तक 60 लाख से अधिक लोगों ने गंगा और संगम में डुबकी लगाई.

Kumbh 2019: कुंभ में ये अखाड़े लगाते हैं आस्‍था की डुबकी, जानें इनका पूरा इतिहास

मेलाधिकारी विजय किरण आनंद ने यहां संवाददाताओं को बताया कि रविवार को मेले में स्नान के लिए आने वाले श्रद्धालुओं की संख्या दो करोड़ के पार पहुंचने की संभावना है. इसे देखते हुए प्रमुख 10 स्थानों पर 500 अतिरिक्त पुलिस बल तैनात किए गए हैं. डीआईजी मेला केपी सिंह ने बताया कि बसंत पंचमी का मुहूर्त शनिवार सुबह 8:55 बजे से रविवार की सुबह 10 बजे तक है. इसे देखते हुए श्रद्धालुओं का गंगा स्नान सुबह से ही जारी है और बड़ी संख्या में स्नानार्थी कुंभ मेले में आ रहे हैं.

Kumbh Mela 2019: कुंभ के ‘तीसरे शाही’ स्नान में दो करोड़ लोग लगाएंगे आस्‍था की डुबकी

अक्षयवट से त्रिवेणी मार्ग के बीच पांच पांटून पुल बंद
उन्होंने कहा कि बीएसएफ की और दो कंपनियां तैनात की गई हैं. शनिवार की मध्य रात्रि से अक्षयवट से त्रिवेणी मार्ग के बीच पांच पांटून पुलों को बंद कर दिया जाएगा. इसके अलावा, रविवार को चार पहिया वाहनों का प्रवेश बंद रहेगा. मेलाधिकारी ने बताया कि मौनी अमावस्या पर्व की तरह ही बसंत पंचमी पर भी आठ किलोमीटर के क्षेत्र में 40 घाट स्नान के लिए उपलब्ध रहेंगे. लोगों का मार्गदर्शन करने के लिए सभी जगह लाउडस्पीकर की व्यवस्था की गई है.

Kumbh 2019: कुंभ में आने वाले नागा साधुओं के बारे में वो बातें, जिससे आप भी होंगे अंजान

तीसरा और अंतिम शाही स्‍नान
उन्होंने बताया कि संगम लोअर मार्ग, संगम अपर मार्ग और अखाड़ा मार्ग पर विशेष निगरानी के लिए नियंत्रण कक्ष को निर्देश दिए गए हैं. उल्लेखनीय है कि मकर संक्रांति और मौनी अमावस्या के बाद बसंत पंचमी तीसरा और अंतिम शाही स्नान है और इसके बाद अखाड़ों के साधु अपने अपने गंतव्यों की ओर लौटना शुरू कर देते हैं. हालांकि कुंभ मेला चार मार्च तक चलेगा और उस दिन महाशिवरात्रि के स्नान के साथ यह मेला संपन्न होगा.

Kumbh 2019: प्रयागराज कुंभ के ये हैं मुख्य आकर्षण, मेले में आने से पहले जरूर पढ़ें…