प्रयागराज: उत्तर प्रदेश में यहां जारी कुंभ मेले में शनिवार को सप्ताह भर चलने वाले ‘योग कुंभ’ के लिए दिग्गज साधु-संत और योग गुरु इकठ्ठा हुए हैं. अधिकारियों ने कहा कि यह कार्यक्रम शुक्रवार को शुरू हुआ और सात फरवरी तक चलेगा. इस कार्यक्रम का आयोजन राज्य पर्यटन विभाग, अतुल्य भारत और केंद्रीय पर्यटन मंत्रालय के सहयोग से भारतीय योग संघ व परमार्थ निकेतन द्वारा संयुक्त रूप से किया गया है.

Kumbh Mela 2019: मौनी अमावस्‍या से पहले कुंभ में उमड़ा आस्‍था का सैलाब, भारी सुरक्षा

सात दिन चलने वाला योग कुंभ सेक्टर 18 जीआईडब्लूए कुंभ शिविर के गंगा एक्शन परिवार (जीएपी) में परमार्थ निकेतन के ‘संगम’ के किनारे आयोजित किया जा रहा है. आर्ट ऑफ लिविंग के संस्थापक श्री श्री रवि शंकर और योग गुरु बाबा रामदेव सुबह के सत्र में उपस्थित हुए. योग के बारे में लोगों को समझाते हुए रवि शंकर ने कहा कि योग हमारी जिंदगी को संगीत से भरता है. हम यहां विविधता में एकता के लिए जुटे हैं. योग का मकसद हमें हमारे भीतर के संगम की ओर ले जाना है, जहां हर क्षण योग है.

Mauni Amavasya 2019: कब है मौनी अमावस्‍या, जानिए मौन व्रत का महत्‍व

योग क्रांति सभी क्रांतियों का मूल
रामदेव ने सैकड़ों योग के शौकीनों को अपने संबोधन में कहा कि योग क्रांति सभी क्रांतियों का मूल है और हर दिन योग का अभ्यास करने व पूरे दिन ‘कर्म योग’ करने से हमें संभावित व अनंत प्रकाश प्राप्त होता है. सत्र के समाप्त होने पर स्वामी चिदानंद सरस्वती ने कहा कि शनिवार के सम्मेलन में पवित्र संगम के तट पर संसृति और एकता थी, जो अपने आप में अमरता का अमृत है.

धर्म से जुड़ी अन्य खबरों को पढ़ने के लिए धर्म पर क्लिक करें.