Kumbh Sankranti 2020: कुंभ संक्रांति का हिंदू धर्म में खास महत्‍व है. इस दिन सूर्य मकर से कुंभ राशि में प्रवेश करते हैं. ये एक माह का चक्र होता है. मकर संक्रांति के बाद ये सूर्य का राशि परिवर्तन है. Also Read - Sun Transit in Aquarius 2020: आज कुंभ संक्रांति पर सूर्य का राशि परिवर्तन, जानें आपकी राशि पर क्‍या होगा असर

Kumbh Sankranti 2020 Date

इस साल कुंभ संक्रांति 13 फरवरी, गुरुवार को है. इस‍ दिन दान-पुण्‍य का विशेष महत्‍व होता है. Also Read - Kumbh Sankranti 2019: मकर से कुंभ राशि में प्रवेश करेंगे सूर्य, इन राशियों पर होगी धनवर्षा...

Kumbh Sankranti Importance

मकर संक्रांति के बाद अगली संक्रांति होती है कुंभ संक्रांति. पूर्णिमा, अमावस्या और एकादशी का जितना महत्व है उतना ही महत्व संक्रांति तिथि का भी है. मकर संक्रांति की ही तरह कुंभ संक्रांति पर भी स्नान-ध्यान, दान-पुण्य का विशेष महत्‍व है. संक्रांति के दिन स्नान से जातक को ब्रह्म लोक की प्राप्ति होती है. देवी पुराण में कहा गया है की संक्रांति के दिन जो स्नान नहीं करता, दरिद्रता उसे कई जन्मों तक घेरे रहती है. Also Read - Kumbh Sankranti 2019: जानें तिथि, शुभ मुहूर्त, जरूर करें ये काम मिट जाएंगे जन्‍मों के पाप...

Kumbh Sankranti Shubh Muhurat

शुभ मुहूर्त- सुबह 7:05 बजे से 9:03 बजे तक.
महापुण्य मुहूर्त- सुबह 8:39 बजे से 9:03 बजे तक.

Kumbh Sankranti Pujan Vidhi

कुंभ संक्रांति के दिन प्रातः उठकर स्नान करना चाहिए. स्‍नान किसी पवित्र नदी में करें तो बेहतर होगा. अगर पवित्र नदी में स्‍नान नहीं कर सकते तो घर में नहाने के पानी में गंगाजल मिला लें. इस पानी में तिल जरूर डाल दें. स्नान के बाद सबसे पहले सूर्य देव को अर्घ्य देना चाहिए. फिर मंदिर जाएं. इसके बाद दान-पुण्य करना चाहिए. दान में यथाशक्ति खाद्य सामग्री, कपड़े आदि का दान करें.

धर्म की और खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें.