लालबागचा राजा 2018 का पहला लुक: मुंबई ही नहीं बल्कि देशभर में फेमस और सबसे बड़ी गणेश प्रतिमाओं में से एक लाल बाग के राजा का पहला लुक भक्तों के सामने आ गया है. लाल बाग के राजा में भक्तों की गहरी आस्था है. ऐसा माना जाता है कि जो भी लाल बाग के राजा के दर्शन करने जाता है, बप्पा उसकी हर मुराद पूरी करते हैं. Also Read - Ganesh Chaturthi 2020 Bhog: 10 दिन तक भगवान गणेश को लगाएं ये 10 तरह के भोग

Also Read - Sankashti Chaturthi 2020: संकष्ठी चतुर्थी आज, यहां जानिए मुहूर्त और व्रत विधि

Ganesh Chaturthi 2018 Puja Vidhi: घर में ऐसे स्थापित करें गणेश जी की मूर्ति, जानें पूजा विधि और महत्व Also Read - Vinayaka Chaturthi 2019 October: विनायक चतुर्थी पर ऐसे दें शुभकामनाएं, भेजें ये Messages

लाल बाग के राजा की महिमा ऐसी है कि हर साल यहां आम से लेकर खास तक सभी बप्पा के चरणों में अपना सर झुकाने आते हैं. हर साल आम लोगों के साथ साथ ही फिल्मी और टीवी की दुनिया के कई सितारें भी लाल बाग के राजा के दर्शन करने पहुंचते हैं. अगर आप लालबाग के राजा के दर्शन करने मुंबई नहीं आ सकते तो कोई बात नहीं हम आपको घर बैठे ही लालबाग के राजा के दर्शन करवा देते हैं.

मुंबई के लालबाग इलाके में लालबागचा राजा सार्वजनिक गणेशोत्सव मंडली पिछले 85 वर्षों से गणपति स्थापित कर रहे हैं. लालबाग के राजा का डिजाइन अब पेटेंट हो चुका है. कांबली फैमिली ने लालबाग के राजा के डिजाइन को पेटेंट करवा रखा है. लालबाग के राजा के दर्शन करने के लिए भक्तों की दो तरह की लाइने लगती हैं. एक जनरल लाइन और दूसरी नवस लाइन.

Ganesh Chaturthi 2018: घर लाना चाहते हैं गणपति की मूर्ति, तो इन 5 बातों का जरूर रखें ध्यान

नवस लाइन में वो लोग लगते हैं जो लालबाग के राजा के चरण स्पर्श करना चाहते हैं. लालबाग के राजा की प्रतिमा लगभग 15 फीट ऊंची होती है और इसे बनाने में 1 से 2 महीने लगते हैं. लालबाग के राजा की प्रतिमा को 22 सितंबर को विसर्जित किया जाएगा.

Pitru Paksha 2018 Date: कब से शुरू हो रहा है पितृ पक्ष, क्या होगा श्राद्ध का सही समय, जानिये

गणेश चतुर्थी की तैयारियां अब शुरू हो चुकी है और बप्पा का ये त्योहार 13 सितंबर से शुरू होने वाला है. 10 दिनों के इस त्योहार में लोग अपने घरों में गणेश जी की प्रतिमा स्थापित करते हैं. मुख्य रूप से यह त्योहार महाराष्ट्र में मनाया जाता है. लेकिन पिछले कुछ वर्षों से यह त्योहार महाराष्ट्र के बाहर देशभर में मनाया जाने लगा है.