इस साल 13 जनवरी का दिन पंजाबियों के लिए खास होगा. इस दिन दो बड़े त्‍योहार हैं.

पहला लोहड़ी है, जिसे पूरे पंजाब प्रांत सहित नॉथ इंडिया में धूमधाम से मनाया जाता है. दूसरा है प्रकाशोउत्‍सव यानी गुरु गोविन्‍द सिंह जयंती. दिन में जहां धूमधाम से प्रकाश उत्‍सव मनाया जाएगा, वहीं रात में लोग लोहड़ी मनाएंगे.

Surya Grahan 6 Jan 2019: अमावस्‍या पर आंशिक सूर्य ग्रहण, भारत में ये होगा समय, जानें कबसे लगेगा सूतक…

Lohri2.jpg

Lohri 2019
इस दिन लोग घरों और चौराहों के बाहर लोहड़ी जलाते हैं. आग का घेरा बनाकर दुल्ला भट्टी की कहानी सुनाई जाती है. इस दौरान रेवड़ी, मूंगफली और लावा खाने की परंपरा हैं.

सालों पहले इस त्‍योहार को फसल की बुआई और कटाई से जोड़कर मनाने की शुरुआत हुई. अलाव जलाकर उसके इर्दगिर्द लोग नाचते-गाते थे. एक-दूसरे को रेवड़ियां आदि बांटते थे. आज भी शादी या बच्‍चे के जन्‍म के बाद इस त्‍योहार को खास तरीके से मनाया जाता है.

नास्‍त्रेदमस ने 2019 के लिए की थीं ये भविष्‍यवाणियां, क्‍या इस बार भी सच साबित होंगी?

Guru Har Gobind

Guru Gobind Singh Jayanti 2019
13 जनवरी को गुरु गोविंद सिंह जयंती मनाई जाएगी. सिख समुदाय, गुरु गोविंद सिंह के जन्मदिन को गुरु गोविंद जयंती या गुरु पर्व के रूप में मनाता है. इसे प्रकाशोउत्‍सव की तरह मनाया जाता है.

सिखों के 10वें गुरु गुरु गोविंद सिंह का जन्म बिहार के पटना में 1666-1708 के बीच हुआ था. उन्होंने ने ही खालसा पंथ की स्थापना की थी. पटना साहिब में इस साल गुरु गोविंद स‍िंह जयंती 13 जनवरी को मनाई जाएगी.

धर्म की और खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें.