नई दिल्ली:  माघ बिहू (Magh Bihu 2021) या भूगाली बिहू भारत के असम प्रदेश में मनाया जाने वाला एक प्रमुख पर्व है. यह माघ माह में मनाया जाता है (14 या 15 जनवरी) और फसलों की कटाई और उससे उपजे उल्लास का प्रतीक है. जिस प्रकार सूर्य देव के उत्तरायण होने पर उत्तर भारत में लोहड़ी, दक्षिण में पोंगल मनाया जाता है उसी उत्तर पूर्वी राज्य असम में माघ बिहू मनाया जाता है. पोंगल की ही तरह बिहू भी किसानों का ही त्योहार है. Also Read - Priyanka Gandhi Vadra असम के Tea बागान में चाय की पत्तियां तोड़ते आईं नजर, देखें ये वीडियो

कैसे मनाया जाता है माघ बिहू Also Read - Assam: प्रियंका गांधी ने असम में शुरू किया चुनाव प्रचार अभियान, महिलाओं के साथ कुछ इस तरह किया पारंपरिक डांस

माघ बिहू के दिन किसान परिवार के लोग ब्राई शिबराई की पूजा करते हैं. इस दिन किसान अपनी पहली फसल को ब्राई शिबराई को अर्पित करते हैं. इस दिन लोग पारंपरिक धोती, गमोसा और अन्य रंगीन कपड़े पहन कर टोली बना कर डांस करते हैं. इस दिन असम के लोग खार, आलू पितिका, जाक, मसोर टेंगा आदि खाते हैं. Also Read - Assam Assembly Election 2021: असम चुनाव में वोट नहीं डाल पाएंगे 1.08 लाख मतदाता, चुनाव अधिकारी ने बताई वजह

साल में तीन बार मनाया जाता है बिहू

आपको बता दें कि माघ बिहू के साथ ही असम में बोहाग बिहू और कोंगाली बिहू भी मनाया जाता है. बोहराग बिहरू को बैसाख माह में मनाया जाता है जबकि कोंगाली बिहू को कार्तिक के माह में मनाया जाता है.