Maha Shivratri 2020: महाशिवरात्रि का शिव भक्‍तों को काफी इंतजार रहता है. इस साल महाशिवरात्रि पर कई दुर्लभ योग बन रहे हैं. Also Read - चारधाम यात्रा 2020: इस तारीख को खुलेंगे भगवान शिव के धाम केदारनाथ के कपाट

महाशिवरात्रि 21 फरवरी, शुक्रवार को है. यूं तो हिंदू धर्म में हर माह शिवरात्रि आती है पर फाल्गुन कृष्ण चतुर्दशी को पड़ने वाली शिवरात्रि को महाशिवरात्रि के रूप में पूजा जाता है. इसी दिन शिव-पार्वती (Shiv Parvati Marriage) का विवाह हुआ था. इसलिए दोनों का साथ में पूजन किया जाता है. Also Read - Maha Shivratri 2020 lord shiva mahadev ujjain kashi varanasi kashi vishwanath temple worship महाशिवरात्रि: भोलेनाथ के दर्शन को उमड़े श्रद्धालु, उज्जैन से लेकर काशी तक मंदिरों में भीड़

महाशिवरात्रि शुभ मुहूर्त

महाशिवरात्रि पर चतुर्दशी तिथि 21 फरवरी शाम 5:20 से शुरू होगी. अगले दिन यानी 22 फरवरी को शाम 7:02 तक यही तिथि रहेगी. Also Read - Maha Shivratri 2020: राशि के अनुसार शिवलिंग पर जलाभिषेक कर चढ़ाए ये चीजे, भोलेनाथ की कृपा संग बरसेगा पैसा

चार प्रहर पूजा मुहूर्त

महाशिवरात्रि पर शिव-पार्वती की पूजा 4 प्रहरों में बांटी गई है. देखें शुभ समय:
पहले प्रहर की पूजा: 21 फरवरी को शाम 06:26 से रात 09:33 तक
दूसरे प्रहर की पूजा: 21 फरवरी को रात 09:33 से रात 12:40 तक
तीसरे प्रहर की पूजा: 21 फरवरी को रात 12:40 से 22 फरवरी सुबह 03:48 तक
चौथे प्रहर की पूजा: 22 फरवरी को सुबह 03:48 से सुबह 06:55 तक

बेहद शुभ मुहूर्त

महाशिवरात्रि पर पूजा का बेहद शुभ मुहूर्त काल 50 मिनट का रहेगा. ये समय होगा 22 फरवरी को मध्‍य रात्र‍ि 12:15 बजे से 01:05 बजे तक. ये 50 मिनट बेहद शुभ हैं.

Maha Shivratri Vrat Vidhi

महाशिवरात्रि पर सुबह जल्‍दी स्‍नान करें. भगवान शिव की पूजा करें और व्रत का संकल्‍प लें. मंदिर में जाकर भगवान शिव को बेलपत्र आदि अर्पित करें. इस दिन रुद्राक्ष की माला धारण करना भी अच्छा माना जाता है. महाशिवरात्रि के दिन कच्चे दूध में गंगाजल मिलाकर शिवलिंग का अभिषेक करें. चन्दन, पुष्प, धूप, दीप आदि से पूजन करें.

धर्म की और खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें.