Mahakumbh 2021: अगले साल यानी 2021 में हरिद्वार में होने वाले महाकुंभ का आयोजन तय समय पर ही होगा. जूना अखाड़े के आचार्य महामंडलेश्वर अवधेशानंद गिरी ने इसकी जानकारी दी. दरअसल कुंभ के आयोजन को लेकर तमाम शंकाओं को खारिज करते हुए संन्यासियों के सबसे बड़े जूना अखाड़े के आचार्य महामंडलेश्वर अवधेशानंद गिरी ने कहा है कि इस बार कुंभ का योग कई शताब्दियों के बाद 11 सालों में बना है, लिहाजा कुंभ के स्थगन का कोई सवाल ही नहीं पैदा होता. Also Read - कांवड़ यात्रा स्थगित होने के कारण हरिद्वार जिला प्रशासन ने की सीमाएं सील, केवल इन्हें मिलेगी इजाजत

उन्होंने बताया कि महाकुंभ 2021 अपने समय पर ही होगा और पहला शाही स्नान 11 मार्च को होगा. बता दें कि कोरोना महामारी के चलते यह कयास लगाए जा रहे थे कि हरिद्वार कुंभ भी एक साल आगे खिसक जाएगा. Also Read - Maha Kumbh 2021: हरिद्वार महाकुंभ में होने वाले शाही स्नान की तारीखों का ऐलान, यहां देखें पूरी लिस्ट

गौरतलब है कि महाकुंभ का आयोजन हर 12 साल में होता है और हरिद्वार में पिछला कुंभ 2010 में हुआ था. जूना अखाड़े के मुताबिक इस बार कुंभ का योग 11 सालों में बना है जिससे इसका आयोजन 2021 में होगा. ज्योतिषियों के अनुसार जब मेष राशि में सूर्य और कुंभ राशि में बृहस्पति होते हैं, तब हरिद्वार में कुंभ का आयोजन होता है और यह संयोग 2021 में ही बन रहा है. आचार्य महामंडलेश्वर अवधेशानंद गिरी के अनुसार अगर कुंभ के समय भी स्थितियां ऐसे ही रहीं तो प्रतीकात्मक रूप से कुंभ स्नान होगा, लेकिन किसी भी कीमत पर कुंभ का समय आगे नहीं बढ़ेगा. Also Read - पुलिस के हत्थे चढ़ा खालिस्तान लिबरेशन फोर्स को हथियार सप्लाई करने वाला शख्स