Mahashivratri 2019: भगवान शंकर को खुश करने का सबसे बड़ा पर्व महाशिवरात्रि आगामी चार मार्च 2019 को है. इस दिन को लोग बड़े श्रद्धा भाव और उत्‍साह के साथ मनाते हैं. भगवान शिव को भोले बाबा भी कहा जाता है. भोले बाबा इतने भोले हैं कि अगर आप श्रद्धा भाव से इन्‍हें एक लोटा जल भी अर्पित कर दें तो वो खुश हो जाते हैं और आपके सारे कष्‍ट हर लेते हैं. ऐसे में महाशिवरात्रि का दिन विशेष महत्‍व रखता है. इस दिन भोलेबाबा की पूजा करने से सबकी मनोकामना पूर्ण हो जाती है. Also Read - चारधाम यात्रा 2020: इस तारीख को खुलेंगे भगवान शिव के धाम केदारनाथ के कपाट

Also Read - Maha Shivratri 2020: राशि के अनुसार शिवलिंग पर जलाभिषेक कर चढ़ाए ये चीजे, भोलेनाथ की कृपा संग बरसेगा पैसा

Mahashivratri 2019: कब है महाशिवरात्रि, जानिए शुभ मुहूर्त, व्रत का महत्व और पूजन विधि Also Read - Maha Shivratri 2020 Wishes: महाशिवरात्रि पर दोस्‍तों को हिंदी में भेजें ये मैसेज, Quotes और GIFs, कहें जय भोलेनाथ

क्‍यों मनाई जाती है महाशिवरात्रि

दुनिया भर में लोग भगवान शिव की कल्पना अपनी-अपनी आस्था के अनुरूप करते हैं. कोई उन्हें भोले के रूप में देखता है तो कोई उन्हें बाबा बर्फानी के रूप में पूजता है. कुछ लोग उन्हें विश का प्याला पीने वाले महादेव के रूप में देखता है तो कोई उन्हें हांथ में डमरू त्रिशुल लिये पूरी दुनिया को नचाने वाले मदारी के रूप में देखता है. शिव शंकर को आदि और अनंत माना गया है जो पृथ्वी से लेकर आकाश और जल से लेकर अग्नि हर तत्व में विराजमान हैं.

Mahashivratri 2019: महाशिवरात्रि पर कैसे करें भगवान शिव की पूजा, जानिए व्रत का तरीका

सारे देवों में शिव ही ऐसे देव हैं जो अपने भक्‍तों की भक्ति-पूजा से बहुत जल्‍द प्रसन्‍न हो जाते हैं. महाशिवरात्रि के पर्व के बारे में मिथ है कि सृष्टि के प्रारंभ में इसी दिन मध्यरात्रि को भगवान शंकर का ब्रह्मा से रुद्र के रूप में अवतरण हुआ था. पौराणिक कथाओं के अनुसार महाशिवरात्रि में किसी भी प्रहर अगर भोले बाबा की आराधना की जाए तो भोले त्रिपुरारी दिल खोलकर भक्तों की कामनाएं पूरी करते हैं. महाशिवरात्रि भगवान शिव के पूजन का सबसे बड़ा पर्व है. फाल्गुन कृष्ण चतुर्दशी को महाशिवरात्रि पर्व मनाया जाता है.

संगम से साधुओं का काशी कूच, महाशिवरात्रि स्‍नान को दिया नारा- ‘अब चलो महादेव के धाम’