Makar Sankranti 2019: 15 जनवरी को मकर संक्रांति मनाई जाएगी. मकर संक्रांति को यूपी और बिहार में खिचड़ी भी कहा जाता है, क्‍योंकि इस दिन घरों में विशेष रूप से खिचड़ी बनाई जाती है और गुरु गोरखनाथ जी को चढ़ाई जाती है. साथ ही लोग खिचड़ी खाते हैं. साथ ही दूसरों को बांटते भी हैं. चूंकि इस दिन दान का विशेष महत्‍व होता है, ऐसे में खिचड़ी बांटने से भी पुण्‍य मिलता है. इसके अलावा गरीबों में ऊनी वस्त्र का दान करें. इस दिन दान करने से सूर्य और शनि दोनों का आशीर्वाद प्राप्त होता है. Also Read - Makar Sankranti 2020: मकर संक्रांति के दिन राशि के अनुसार जरूर करें इन चीजों का दान, चमकेगा भाग्य

Also Read - Pongal 2020: कब और कैसे मनाते हैं पोंगल, जानिए मकर संक्रांति व लोहड़ी से इसका कनेक्‍शन

Makar Sankranti 2019: क्‍या है मकर संक्रांति का महत्‍व, इस दिन जप, तप, दान, स्‍नान क्‍यों जरूरी है? Also Read - Kharmas 2019: कब तक रहेगा खरमास, जानिए खरमास में क्या करें और क्या न करें

मकर संक्रांति को लेकर कहा गया है कि सूर्य एक राशि में एक माह रहते हैं और जब सूर्य अपने पुत्र शनि की राशि मकर में जाते हैं तो वह संक्रांति, मकर संक्रांति कहलाती है. इस दिन से सूर्य उत्तरायण हो जाते हैं और खरमास समाप्त हो जाते हैं. इसके साथ ही संपूर्ण मांगलिक कार्य भी आरंभ हो जाते हैं. वैसे तो मकर संक्रांति के दिन अलग-अलग पकवानों के साथ खिचड़ी बनाने और खाने का महत्व होता है. लेकिन खिचड़ी को लेकर विशेष मान्‍यता है. खिचड़ी की गर्मी मंगल और सूर्य से जुड़ी है. इसलिए मकर संक्रांति के दिन खिचड़ी खाने से राशि में ग्रहों की स्थिति मजबूत होती है. कहा जाता है कि इस दिन नए अन्न की खिचड़ी खाने से पूरे साल आरोग्य मिलता है.

Makar Sankranti 2019: मकर संक्रांति के दिन करें ये काम, सितारे होंगे बुलंद 

सामग्री

100 ग्राम चावल, 50 ग्राम मूंग दाल, 2 आलू, 1 छोटी फूल गोभी, 100 ग्राम मटर के दाने, 1 इंच अदरक, 3-4 हरी मिर्च, स्वादानुसार नमक, आधा टीस्पून हल्दी, आधा टीस्पून शक्कर, 2 साबुत लाल मिर्च, 1/3 टीस्पून जीरा, 1 चुटकी हींग, 4 लौंग, 2 छोटी इलायची, 1 इंच दालचीनी, 2 तेजपत्ते, 3 टेबलस्पून देशी घी.

VIDEO: मकर संक्रांति पर बन रहा खास योग, होंगी सभी मनोकामनाएं पूरी

खिचड़ी बनाने की विधि

  • सबसे पहले आलू छीलकर आठ लंबे टुकड़े कर लें. फूल गोभी के बड़े-बड़े टुकड़े कर लें. अदरक काट लें व हरी मिर्च बीच से चीर लें.
  • चावल दो-तीन बार पानी बदल कर धो लें. दाल को मंद आंच पर बिना घी के गुलाबी होने तक भूने.
  • इसमें घी, साबुत लाल मिर्च, जीरा और हींग छोड़ बाकी सब सामान मिला कर आधा लीटर गर्म पानी देकर ढककर मंद आंच पर पकाएं. बीच-बीच में हल्के से चलाये.
  • परोसते समय घी गर्म कर साबुत लाल मिर्च, जीरा और हींग का छौंक तैयार कर खिचड़ी में दें.

धर्म की और खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें.