Makar Sankranti 2019 को हिन्दुओं का प्रमुख पर्व माना गया है. पौष मास में जब सूर्य मकर राशि पर आता है तभी इस पर्व को मनाया जाता है. वर्तमान शताब्दी में यह त्योहार जनवरी माह के चौदहवें या पन्द्रहवें दिन ही पड़ता है, इस दिन सूर्य धनु राशि को छोड़ मकर राशि में प्रवेश करता है. इस बार मकर संक्रांति का पर्व 15 जनवरी को मनाया जाएगा. इस दिन स्नान और दान-पुण्य जैसे कार्यों का विशेष महत्व बताया जाता है. बताते हैं कि इस दिन सभी प्रकार के शुभ कार्यों की शुरुआत हो जाती है और कुछ खास उपाय को अपनाकर आप भी अपने सितारे बुलंद कर सकते हैं. मकर संक्रांति के दिन ये उपाय करने से जीवन में बड़ी सफलता मिलती है:- Also Read - Makar Sankranti 2020: मकर संक्रांति के दिन राशि के अनुसार जरूर करें इन चीजों का दान, चमकेगा भाग्य

Also Read - Pongal 2020: कब और कैसे मनाते हैं पोंगल, जानिए मकर संक्रांति व लोहड़ी से इसका कनेक्‍शन

Kumbh 2019: कुंभ में आने वाले नागा साधुओं के बारे में वो बातें, जिससे आप भी होंगे अंजान Also Read - Kharmas 2019: कब तक रहेगा खरमास, जानिए खरमास में क्या करें और क्या न करें

स्नान और दान करें

शास्त्रों के अनुसार, दक्षिणायण को देवताओं की रात्रि अर्थात् नकारात्मकता का प्रतीक और उत्तरायण को देवताओं का दिन अर्थात् सकारात्मकता का प्रतीक माना गया है. इसीलिए इस दिन जप, तप, दान, स्नान, श्राद्ध, तर्पण आदि धार्मिक क्रियाकलापों का विशेष महत्व है. ऐसी धारणा है कि इस अवसर पर दिया गया दान सौ गुना बढ़कर पुन: प्राप्त होता है. इस दिन शुद्ध घी एवं कम्बल का दान मोक्ष की प्राप्ति करवाता है. जैसा कि निम्न श्लोक से स्पष्ठ होता है-

माघे मासे महादेव: यो दास्यति घृतकम्बलम

स भुक्त्वा सकलान भोगान अन्ते मोक्षं प्राप्यति.

Durga Ashtami Date 2019: देखें मासिक दुर्गाष्‍टमी का पूरा कैलेंडर, पूजा विधि भी पढ़ें

भगवान सूर्य की करें पूजा

Makar Sankranti पर सामान्यत: सूर्य सभी राशियों को प्रभावित करते हैं, किन्तु कर्क व मकर राशियों में सूर्य का प्रवेश धार्मिक दृष्टि से अत्यन्त फलदायक है. यह प्रवेश अथवा संक्रमण क्रिया छह-छह माह के अन्तराल पर होती है. अत: मकर संक्रान्ति पर सूर्य की राशि में हुए परिवर्तन को अंधकार से प्रकाश की ओर अग्रसर होना माना जाता है. प्रकाश अधिक होने से प्राणियों की चेतनता एवं कार्य शक्ति में वृद्धि होगी. ऐसा जानकर सम्पूर्ण भारतवर्ष में लोगों द्वारा विविध रूपों में सूर्यदेव की उपासना, आराधना एवं पूजन कर, उनके प्रति अपनी कृतज्ञता प्रकट की जाती है. चूंकि इस बार मकर संक्रांति का पर्व 15 जनवरी को पड़ रहा है और सर्वार्थ सिद्धि योग बन रहा है. ऐसे में अगर आप अपने जीवन में तरक्की पाने की राह को आसान बनाना चाहते हैं तो मकर संक्रांति के दिन सूर्य देव को जल में तिल मिलाकर अर्घ्य दें, इससे उनकी कृपा प्राप्त होगी.

Ekadashi 2019: देखें एकादशी कैलेंडर, किस महीने किस तारीख को रखा जाएगा कौन सा व्रत…

तिल से बनी चीजें खाएं

Makar Sankranti के दिन भगवान सूर्य अपने पुत्र शनि के घर जाते हैं. इस दिन सूर्य मकर राशि में प्रवेश करते हैं, इसलिए इस दिन तिल से बनी चीजों को खाना शुभ माना जाता है. मान्यता है कि इस दिन तिल से बनी चीजों को खाने से सूर्य देव प्रसन्न होते हैं और उनकी कृपा प्राप्त होती है. इसके अलावा इस दिन खिचड़ी खाने से शनि और राहु का प्रकोप भी शांत होता है.

Vinayak Chaturthi 2019: जानें कब है विनायक चतुर्थी, कैसे करें पूजा व व्रत

तिल के तेल से मालिश करें

ऐसी मान्‍यता है कि मकर संक्रांति के दिन तिल का दान करना चाहिए. ऐसा करने से तरक्की की राह में आने वाली बाधाओं को दूर किया जा सकता है. इसके अलावा इस दिन तिल के तेल से मालिश करना भी शुभ माना जाता है. मान्यता है कि ऐसा करने से बुरा समय दूर होता है और समाज में मान-सम्मान बढ़ता है. इसके अलावा इससे भगवान सूर्य भी प्रसन्न होते हैं.

धर्म की और खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें.