Makar Sankranti 2019: वैदिक ज्योतिष के अनुसार मकर संक्रांति एक महत्वपूर्ण दिन है जब सूर्य मकर राशि में प्रवेश करता है. हिंदू धर्म में सूर्य की पूजा की जाती है और उन्हें सूर्यदेव के रूप में जाना जाता है, जो पृथ्वी पर सभी जीवित प्राणियों का पोषण करते हैं.

Makar Sankranti 2019: मकर संक्रांति पर इन राशि वालों की चमक सकती है किस्‍मत

हालांकि हिंदू कैलेंडर में सभी बारह दिन, जब सूर्यदेव एक राशि को स्थानांतरित करते हैं, सूर्यदेव की पूजा करने का विधान है. लेकिन वह दिन जब सूर्यदेव मकर राशि में जाने लगते हैं, सबसे शुभ दिन माना जाता है. यही मकर संक्रांति का पर्व होता है.

इस बार मकर संक्रांति का पर्व सर्वार्थ सिद्धि योग में मनाया जायेगा. आगामी 15 जनवरी को संक्रांति है.

मकर संक्रांति से सूर्य दक्षिणायन से उत्तरायण हो जाएगा. सूर्य के मकर राशि में आने से मलमास समाप्त होगा. जिससे मांगलिक कार्य फिर से शुरू हो जाएंगे. सूर्य जब मकर, कुंभ, मीन, मेष, वृष और मिथुन राशि में सूर्य रहता है, तब ये उत्तरायण होता है. जब सूर्य शेष राशियों कर्क, सिंह, कन्या, तुला, वृश्चिक और धनु राशि में रहता है, तब दक्षिणायन होता है.

Makar Sankranti 2019: क्‍या है मकर संक्रांति का महत्‍व, इस दिन जप, तप, दान, स्‍नान क्‍यों जरूरी है?

जरूर करें ये काम
– मकर संक्रांति पर सुबह जल्दी उठें और स्नान करते समय सभी पवित्र तीर्थों और नदियों के नामों का जाप करें. इससे घर पर तीर्थ स्नान का पुण्य मिल सकता है.

– स्नान के बाद तांबे के लोटे में लाल फूल और चावल डालकर सूर्य को जल चढ़ाएं. सूर्य मंत्र ऊँ सूर्याय नम: का जाप 108 बार करें.

Kumbh Mela 2019: इन 6 तिथियों पर करोड़ों श्रद्धालु करेंगे स्‍नान-दान, जानें क्‍यों माना जाता है शुभ…

– किसी मंदिर में गुड़ और काले तिल का दान करें.

– भगवान को गुड़-तिल के लड्डू का भोग लगाएं और भक्तों को प्रसाद वितरित करें.

– ज्योतिषी डॉ. दीपक शुक्ल

धर्म की और खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें.