Makar Sankranti 2020: बाबा गोरखनाथ को मकर संक्रांति पर पहली खिचड़ी उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री व गोरक्षपीठाधीश्वर महंत योगी आदित्यनाथ ने बुधवार को चढ़ाई. उसके बाद उन्होंने नेपाल नरेश की भी खिचड़ी चढ़ाई. योगी के खिचड़ी चढ़ाने के बाद मंदिर का दरवाजा आम भक्तों के लिए खोल दिया गया. इसी के साथ खिचड़ी मेला भी प्रारंभ हुआ.

योगी ने पूजा-अर्चना व खिचड़ी चढ़ाने के बाद लोगों को मकर संक्रांति की शुभकामनाएं भी दीं. उनके खिचड़ी चढ़ाने के बाद नेपाल राजवंश की ओर से आई खिचड़ी को चढ़ाया गया फिर आमजन के खिचड़ी चढ़ाए जाने का सिलसिला प्रारंभ हुआ. अब पूरे सवा महीने तक लोग आस्था की खिचड़ी बाबा गोरखनाथ को अर्पित कर सकेंगे. बुधवार को मंदिर में पूरे दिन खिचड़ी प्रसाद बंटेगी, भंडारा होगा.

Makar Sankranti 2020: मकर संक्रांति पर दान क्‍यों जरूरी, इस शुभ मुहूर्त में करें दान

मंदिर के बाहर पहले से भारी संख्या में उमड़े भक्तों ने दरवाजा खुलते ही मंदिर में खिचड़ी चढ़ाना शुरू कर दी. एक तरफ भक्त खिचड़ी चढ़ा रहे थे तो दूसरी तरफ कतार लगे लोग गुरु गोरखनाथ का जयकारा लगा रहे थे. भीषण सर्दी का भी भक्तों पर कोई विशेष असर नहीं था. हाथ में चावल दाल की पोटली लिए भक्त हर हर महादेव, जय गुरु गोरखनाथ का लगातार जयकारा लगा रहे हैं.

गोरखनाथ मंदिर में खिचड़ी चढ़ाने के लिए सोमवार से ही श्रद्धालुओं के आने का सिलसिला शुरू हो गया था. दूरदराज से आए श्रद्धालु मंगलवार की रात से ही मंदिर में खिचड़ी चढ़ाने के लिए लाइन लगाना शुरू कर दिए थे. कंपकपाती ठंड में भी श्रद्धालुओं के हौसले बुलंद थे. वह सर्द रात में भी घंटों से लाइन लगाए हुए अपनी बारी आने का इंतजार करते रहे.

मंदिर में खिचड़ी चढ़ाने वालों की आ रही भीड़ को देखते हुए पूरे शहर में यातायात परिवर्तन किए गए हैं. शहर और मंदिर के चप्पे-चप्पे पर पुलिस-पीएसी तैनात की गई है.
(एजेंसी से इनपुट)

धर्म की और खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें.