नई दिल्ली: मकर संक्रांति का हिंदू धर्म में खास महत्व है. सूर्य के राशि परिवर्तन को संक्रांति कहा जाता है. सूर्य जब मकर राशि में प्रवेश करता है, तो इस राशि परिवर्तन को मकर संक्रांति कहा जाता है. इस दिन सूर्यदेव की पूजा से मनचाहा वरदान प्राप्त होता है. इस दिन सूर्य धनु राशि से मकर राशि में प्रवेश करते हैं. इस दिन जप, तप, दान, स्नान का विशेष महत्व होता है.Also Read - Photos: देश में मकर संक्रांति, पोंगल, माघ बीहू, भोगी और उत्तरायण पर्व के ब‍िखरे रंग, लाखों लोगों ने स्‍नान किया

मकर संक्रांति  (Makar Sankranti 2021) कब है
मकर संक्रांति को लेकर काफी दुविधा रहती है कि यह किस दिन मनाई जाएगी. कुछ लोगों का मानना है कि मकर संक्रांति 14 जनवरी को मनाई जाती है जबकि कुछ लोग इसे 15 जनवरी को मनाते हैं. ऐसे में आपको बता दें कि इस साल मकर संक्रांति 14 जनवरी को मनाई जाएगी. . इस दिन सूर्य देव की उपासना की जाती है. इसे उत्तरायणी के नाम से भी जाना जाता है. Also Read - Surya Namaskar: मकर संक्रांति के अवसर पर आज 1 करोड़ से ज्यादा लोगों ने किया सूर्य नमस्कार

मकर संक्रांति मुहूर्त (Makar Sankranti 2021 Muhurat)
मकर संक्रान्ति बृहस्पतिवार, जनवरी 14, 2021 को
मकर संक्रान्ति पुण्य काल – 08:30 से 17:45
अवधि – 09 घण्टे 16 मिनट्स
मकर संक्रान्ति महा पुण्य काल – 08:30 से 10:15
अवधि – 01 घण्टा 45 मिनट्स Also Read - Makar Sankranti: कोरोना के कारण मां तारिणी मंदिर के कपाट बंद, श्रद्धालु नहीं कर पा रहे दर्शन