Margashirsha Amavasya 2018: मार्गशीर्ष मास या अगहन महीने में आने वाली अमावस्या को मार्गशीर्ष अमावस्या कहा जाता है. इस अमावस्या को अगहन अमावस्या और मार्गशीर्ष मास की श्राद्धादि अमावस्या भी कहा जाता है. इस बार यह अमावस्या 7 दिसंबर को है. हालांकि अमावस्या तिथि 6 दिसंबर को ही शुरू हो जाएगी. लेकिन हिन्दू पंचांग के अनुसार उदया तिथि में ही त्योहार मनाया जाता है. इसलिए 7 दिसंबर को ही मार्गशीर्ष अमावस्या की पूजा होगी.

मार्गशीर्ष अमावस्या 2018 तारीख और शुभ मुुर्हूत

तिथि: शुक्रवार, 7 दिसंबर 2018
मार्गशीर्ष अमावस्या तिथि आरंभ: 6 दिसंबर 2018 को 12:12 बजे से
मार्गशीर्ष अमावस्या तिथि समाप्त: 7 दिसंबर 2018 को 12:50 बजे तक

Grahan 2019: साल 2019 में लगने वाले हैं पांच ग्रहण, 3 सूर्य ग्रहण और 2 चंद्र, जानिये तारीखें

मार्गशीर्ष अमावस्या 2018 पूजन विधि

1. सुबह-सुबह किसी नदी या तालाब में स्नान करें. यदि आप यमुना नदी में स्नान करें तो उत्तम होगा. अगर आपके आसपास कोई नदी या तालाब नहीं है तो घर में ही स्नान कर व्रत का संकल्प लें.

2. इसके बाद जैसे सूर्य को अर्घ्य देते हैं, वैसे ही अपने पूर्वजों के नाम से अर्घ्य दें और उन्हें याद करें.

3. इसके बाद भगवान श्री सत्यनारायण की पूजा करें और अपने सभी पापों को नष्ट करने की याचना करें.

4. उनकी कथा पढ़ें और आरती करें.

5. अपने सामर्थ्य के अनुसार दान दें.

6. शाम को दीपक जलाएं और भगवान सत्यनारायण की पूजा करें.

धर्म से जुड़ी अन्य खबरों को पढ़ने के लिए धर्म पर क्लिक करें.