Masik Durgashtami 2020: मासिक दुर्गाष्‍टमी पर मां दुर्गा की पूजा की जाती है. विधि-विधान से मां का पूजन किया जाए तो वे प्रसन्‍न होती हैं, भक्‍तों की सभी मनोकामनाएं पूर्ण करती हैं.Also Read - Masik Durgashtami 2020: कब है मासिक दुर्गाष्‍टमी, महत्‍व, पूजन विधि, इन बातों का रखें ध्‍यान

मासिक दुर्गाष्‍टमी इस बार 2 फरवरी, रविवार को है. इस दिन मां का पूजन करें. व्रत कथा कहें. मंत्रों का जप करके मां दुर्गा की आरती करें. Also Read - Masik Durgashtami March 2019: मां दुर्गा की इस आरती से करें पूजा संपन्‍न, पढ़ें विशेष मंत्र...

शनिदेव को खुश करने को रखें शनिवार का व्रत, इन बातों का रखें ख्‍याल Also Read - Masik Durgashtami March 2019: दुर्गाष्‍टमी पर इस विधि से करें मां का पूजन, पूरी होगी हर मनोकामना...

Masik Durgashtami Vrat Katha

सदियों पहले पृथ्वी पर असुर बहुत शक्तिशाली हो गए थे और वे स्वर्ग पर चढ़ाई करने लगे. उन्होंने कई देवताओं को मार डाला और स्वर्ग में तबाही मचा दी. इन सबमें सबसे शक्तिशाली असुर
महिषासुर था.

तब उसका अंत करने के लिए भगवान शिव, भगवान विष्णु और भगवान ब्रह्मा ने शक्ति स्वरूप देवी दुर्गा को बनाया. हर देवता ने देवी दुर्गा को विशेष हथियार प्रदान किए. इसके बाद आदिशक्ति दुर्गा ने पृथ्वी पर आकर असुरों का वध किया.

मां दुर्गा ने महिषासुर की सेना के साथ युद्ध किया और अंत में उसे मार दिया. उस दिन से दुर्गा अष्टमी का पर्व प्रारम्भ हुआ.

Shiv Pujan Vidhi: सोमवार को इस विधि से करें शिव पूजन, मिलेगा सुख का वरदान

मां दुर्गा के विशेष मंत्र

सर्वमङ्गलमङ्गल्ये शिवे सर्वार्थसाधिके।
शरण्ये त्र्यम्बके गौरि नारायणि नमोऽस्तुते॥

ॐ क्लींग ज्ञानिनामपि चेतांसि देवी भगवती ही सा,
बलादाकृष्य मोहय महामाया प्रयच्छति

शरणागतदीनार्तपरित्राणपरायणे।
सर्वस्यार्तिहरे देवि नारायणि नमोऽस्तु ते॥

सृष्टिस्थितिविनाशानां शक्ति भूते सनातनि।
गुणाश्रये गुणमये नारायणि नमोऽस्तु ते॥

शूलेन पाहि नो देवि पाहि खड्गेन चाम्बिके।
घण्टास्वनेन न: पाहि चापज्यानि:स्वनेन च॥

देहि सौभाग्यमारोग्यं देहि मे परमं सुखम्।
रूपं देहि जयं देहि यशो देहि द्विषो जहि॥

सर्वस्वरूपे सर्वेशे सर्वशक्ति समन्विते।
भयेभ्याहि नो देवि दुर्गे देवि नमोऽस्तु ते॥

जयन्ती मङ्गला काली भद्रकाली कपालिनी।
दुर्गा क्षमा शिवा धात्री स्वाहा स्वधा नमोऽस्तुते॥

Vrat Tyohar In February 2020: जया-विजया एकादशी, माघ पूर्णिमा, महाशिवरात्रि समेत फरवरी के संपूर्ण व्रत त्‍योहारों की List

दुर्गा आरती

जय अम्बे गौरी मैया जय मंगल मूर्ति ।
तुमको निशिदिन ध्यावत हरि ब्रह्मा शिव री ॥टेक॥

मांग सिंदूर बिराजत टीको मृगमद को ।
उज्ज्वल से दोउ नैना चंद्रबदन नीको ॥जय॥

कनक समान कलेवर रक्ताम्बर राजै।
रक्तपुष्प गल माला कंठन पर साजै ॥जय॥

केहरि वाहन राजत खड्ग खप्परधारी ।
सुर-नर मुनिजन सेवत तिनके दुःखहारी ॥जय॥

कानन कुण्डल शोभित नासाग्रे मोती ।
कोटिक चंद्र दिवाकर राजत समज्योति ॥जय॥
शुम्भ निशुम्भ बिडारे महिषासुर घाती ।
धूम्र विलोचन नैना निशिदिन मदमाती ॥जय॥

चौंसठ योगिनि मंगल गावैं नृत्य करत भैरू।
बाजत ताल मृदंगा अरू बाजत डमरू ॥जय॥

भुजा चार अति शोभित खड्ग खप्परधारी।
मनवांछित फल पावत सेवत नर नारी ॥जय॥

कंचन थाल विराजत अगर कपूर बाती ।
श्री मालकेतु में राजत कोटि रतन ज्योति ॥जय॥
श्री अम्बेजी की आरती जो कोई नर गावै ।
कहत शिवानंद स्वामी सुख-सम्पत्ति पावै ॥जय॥

धर्म की और खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें.