Mauni Amavasya 2020: मौनी अमावस्या इस बार 24 जनवरी, शुक्रवार को है. शुक्रवार को अमावस्‍या का योग होने से इस तिथि का महत्‍व और बढ़ गया है. इस दिन पूजा-पाठ, स्‍नान-दान का महत्‍व कई गुना बढ़ गया है.

शुक्रवार को अमावस्‍या

शुक्रवार को अमावस्‍या आने से दिन का महत्‍व अधिक है. इस दिन पवित्र नदी में स्नान, दान, पितरों का तर्पण करने का काफी महत्‍व है.

मौनी अमावस्‍या पर शनिदेव करेंगे मकर राशि में प्रवेश, इन तीन राशियों पर शुरू होगी साढ़ेसाती

शास्‍त्रों में भी माघ मास की अमावस्या का काफी महत्‍व बताया गया है. मगर जब ये अमावस्‍या शुक्रवार को पड़ती है तो इस दिन देवी लक्ष्मी और भगवान विष्णु का पूजन करना चाहिए. अगर अमावस्या पर मौन रहकर पूजन किया जाए तो ये और श्रेष्‍ठ होता है.

अमावस्‍या पर ये काम जरूर करें

– शिव मंदिर अवश्‍य जाएं. शिव पूजा करें. भगवान शिव को चावल, पुष्प-हार, चंदन अर्पित करें. ऊं नम: शिवाय मंत्र का जाप करें. जितना हो सके मौन रहें. जल में दूध-काले तिल मिलाकर शिवलिंग पर चढ़ाएं. भगवान शिव को मीठे का भोग लगाएं.

Mauni Amavasya 2020: मौनी अमावस्‍या तिथि, महत्‍व, किन चीजों का करें दान

– शुक्रवार को अमावस्या तिथि पड़ने से इस दिन देवी लक्ष्मी की पूजा करें. शुक्रवार का दिन और अमावस्‍या तिथि, दोनों ही मां लक्ष्‍मी को विशेष पसंद है. इस दिन सूर्यास्त के बाद लक्ष्मी-विष्‍णु जी की पूजा करें. सफेद चीज का भोग लगाएं.

– अमावस्‍या पर पितरों को तर्पण दिया जाता है. श्राद्ध और तर्पण पुण्य कर्म करें. ना कर सकें तो उनके लिए अन्‍न निकालें और उनसे आशीर्वाद बनाए रखने की प्रार्थना करें.

– किसी पवित्र नदी में स्नान करें. नहीं कर सकते हैं तो घर पर स्‍नान के जल में गंगाजल मिला लें. स्नान के बाद जरूरतमंद लोगों को सामर्थ्‍य अनुसार दान दें.

धर्म की और खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें.