Mauni Amavasya 2020: मौनी अमावस्या 2020 पर स्‍नान का विशेष महत्‍व होता है. इस दिन स्‍नान-दान से महापुण्‍य की प्राप्ति होती है.

इस बार मौनी अमावस्या 24 जनवरी, शुक्रवार को है. इस दिन तीर्थराज प्रयाग में स्नान करने की परंपरा है. अगर नहीं जा सकते तो घर में नहाने के पानी में गंगाजल मिलाकर स्‍नान करें. शुक्रवार के दिन अमावस्‍या आने से शुभ संयोग बन रहा है. व्रत रखने से मां लक्ष्‍मी की कृपा भी प्राप्‍त होगी.

मौनी अमावस्या व्रत विधि

इस दिन प्रात:काल ही पवित्र नदी में स्‍नान करें. स्नान के बाद भगवान शिव या विष्‍णु का पूजन करें. व्रत का संकल्‍प लें. इसके बाद तिल के लड्डू, तिल का तेल, आंवला, वस्त्रादि किसी गरीब ब्राह्मण को दें. व्रत रखें. पूरे द‍िन कम से कम बोलने का प्रयास करें. मन को पवित्र रखें. बुरे व‍िचार मन में ना आने दें.

Mauni Amavasya 2020: मौनी अमावस्‍या तिथि, महत्‍व, किन चीजों का करें दान

मौनी अमावस्या मुहूर्त

मौनी अमावस्या- 24 जनवरी, शुक्रवार
अमावस्या तिथि प्रारम्भ- 24 जनवरी, 02:17 बजे से
अमावस्या तिथि समाप्त- 25 जनवरी, 03:11 बजे तक

मौनी अमावस्‍या पर क्‍या करें-क्‍या ना करें

क्‍या करें

– पवित्र नदी में स्‍नान करना चाहिए.
– स्‍नान कर तिल, तिल के लड्डू, तिल का तेल, आंवला, कपड़े आदि का दान करें.
– संभव हो साधु, महात्मा, ब्राह्मणों को भोजन कराएं. यथाशक्ति दान दें.
– दान के अलावा इस दिन पितृ श्राद्ध किया जाता है.
– पहले जल को सिर पर लगाएं फिर स्‍नान करें.
– इस दिन व्रत रखते हैं तो फल और पानी ग्रहण किए जा सकते हैं.

Pradosh Vrat Calendar 2020: बुध प्रदोष से शुरू होकर नए साल में कुल 25 प्रदोष व्रत, देखें कैलेंडर…

क्‍या ना करें

– नहाते समय कुछ न बोलें, मौन रहें.
– घर में कलह ना होने दें. विवादों से बचें.
– शारीरिक संबंध नहीं बनाने चाहिए.
– सुबह देर तक नहीं सोना चाहिए. बिना नहाएं भोजन ना करें.
– नॉनवेज ना खाएं.

धर्म की और खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें.