नई दिल्ली:  नया साल आने से पहले लगभग साढ़े तीन हजार साल पुराना माया सभ्याता एक कैलेंडर इन दिनों काफी वायरल हो रहा है. इस माया कैलेंडर में की गई भविष्यवाणी के चलते पूरी दुनिया में इस समय डर का माहौल है. आपको बता दें कि इस कैलेंडर में बताया गया है महामारी के चलते दुनिया का अंत हो जाएगा और चारों तरफ विनाश ही विनाश होगा. इसी की तरह माया कैलेंडर में और भी कई भविष्यवाणियां की गई हैं, जिनके बारे में जानना आपके लिए काभी जरूरी है. ऐसे में आज हम आपको माया कैलेंडर (Maya Calendar 2021) की कुछ भविष्यवाणियों को बारे में बताने जा रहे हैं जो आपको भी सोचने पर मजबूर कर देंगी. आइए जानते हैं इन भविष्यवाणियों के बारे में –

माया सभ्यता से जुड़े कुछ विद्वानों ने दावा किया था कि साल 2020 के जून में किसी बड़ी महामारी से पूरी दुनिया खत्म हो जाएगी. ऐसे में कोरोना महामारी तो आई और इससे लाखों लोगों की अपनी जान भी देनी पड़ी लेकिन दुनिया खत्म नहीं हुई. हालांकि इस बारे में ट्वीट करने वाले एक विद्वान ने बाद में अपने इस ट्वीट को हटा दिया था.

– माया सभ्यता के कैलेंडर के मुताबिक साल 2021 में भारी प्रलय आएगा. हालांकि माया कैलेंडर में 21 दिसंबर 2012 के आगे की कोई तारीख नहीं थी, लेकिन इसके बाद साल 2012 और उसके बाद साल 2020 में प्रलय की भविष्वाणी की गई थी. अब 2021 में भी प्रलय की भविष्यवाणी की जा रही है.

– आपको बता दें कि माया सभ्यता की भविष्यवाणियों से उलट अमेरिका की अंतरिक्ष एजेंसी नासा ने ऐलान किया था कि दुनिया खत्म नही होगी और वैसे ही चलती रहेगा जैसे अभी तक चली आ रही है.

क्या है माया कैलेंडर में दुनिया खत्म होने का सच

आपको बता दें कि जिस तरह से ग्रेगोरियन कैलेंडर में 31 दिसंबर आखिरी तारीक होती है. उसी तरह से माया सभ्यता के कैलेंडर में भी 21 दिसंबर 2012 एक युग के खत्म होने की आखिरी तारीख थी. इस कैलेंडर में इससे आगे की तारीख का कोई जिक्र नहीं था. क्योंकि जिस गोल पत्थर पर यह कैलेंडर बनाया गया था उसमें आगे लिखने की कोई जगह बाकी नहीं थी जिस कारण आगे की तारीख नहीं लिखी गई. जिसके चलते वैज्ञाानिकों ने दावा किया कि 2012 में दुनिया खत्म हो जाएगी. जबकि ऐसा कुछ हुआ नहीं.