नई दिल्ली: मुकेश अंबानी के बेटे आकाश अंबानी जल्द ही श्लोका मेहता से शादी रचाने वाले हैं. आकाश अंबानी और श्लोका मेहता उत्तराखंड के रुद्रपुर स्थित त्रियुगी नारायण मंदिर में सात फेरे लेंगे. ऐसी मान्यता है कि भगवान शंकर और मां पार्वती की शादी भी इसी मंदिर में हुई थी. इसलिए ऐसा माना जाता है कि इस मंदिर में शादी करने वाले जोड़े सदा के लिए एक दूसरे के हो जाते हैं और एक दूसरे का साथ कभी नहीं छोड़ते.

श्लोका मेहता हीरा व्यापारी और रोसी ब्लू के प्रबंध निदेशक रसेल और मोना मेहता की बेटी हैं. अपने तीनों बहनों में वह सबसे छोटी हैं. उन्होंने धीरूभाई अंबानी इंटरनैशनल स्कूल से ही अपनी स्कूलिंग की है.

जानें कौन हैं श्लोका मेहता, जो बनेंगी मुकेश-नीता अंबानी की बहू!

आकाश अंबानी और श्लोका मेहता जिस मंदिर में शादी करने वाले हैं, उसे मार्च 2018 में सीएम त्रिवेंद्र सिंह रावत ने वेडिंग डेस्टिनेशन घोषित किया था. आकाश और श्लोका से पहले इस मंदिर में कई सेलीब्रिटी फेरे ले चुके हैं. इसमें टीवी कलाकार कविका कौशिक और उत्तराखंड के राज्यमंत्री डा. धनसिंह रावत का नाम शुमार है.

त्रियुगी नारायण मंदिर का महत्व और खास बातें:

5

1. ऐसी मान्यता है कि इसी मंदिर में भगवान शंकर और मां पार्वती की शादी हुई थी.

7

2. यह मंदिर हालांकि भगवान विष्णु और माता लक्ष्मी का है. लेकिन शंकर-पार्वती की शादी के कारण इसका महत्व और भी बढ़ जाता है.

lord-vishnu-ji-mobile-wallpapers

3. जिन लोगों की शादी हो गई है वो यहां आर्शीवाद लेने आते हैं और जिन लोगों की शादी नहीं हो रही है, वह भी यहां वरदान मांगने आते हैं.

1

4. इस मंदिर में वह अग्निकुंड अब भी मौजूद है, जिसके फेरे भगवान शंकर और मां पार्वती ने लिए थे.

2

5. भगवान शंकर और मां पार्वती की शादी में ब्रह्माजी पुरोहित बने थे. उन्होंने ही विवाह सम्पन्न कराया था. इस मंदिर में आज भी वह स्थान मौजूद है, जहां शिव-पार्वती बैठे थे.

3

6. मंदिर में एक ब्रह्मकुंड है, जहां ब्रह्माजी ने विवाह कराने से पहले स्नान किया था.

4

7. यहां एक स्तंभ भी मौजूद है, जहां मां पार्वती ने उपहार स्वरूप मिली अपनी गाय बांधी थी.

8. भगवान शंकर और मां पार्वती की शादी में नारायण मां पार्वती के भाई की भूमिका निभाई थी. विवाह संस्कार में शामिल होने से पहले भगवान विष्णु ने विष्णु कुंड में स्नान किया था. वह आज भी यहां मौजूद है.

6

9. भगवान श‌िव के व‌िवाह में भाग लेने आए सभी देवी-देवताओं ने इसी कुंड में स्‍नान क‌िया था। इन सभी कुंडों में जल का स्त्रोत सरस्वती कुंड को माना जाता है.

Akash Ambani and Shloka Mehta

इस मंदिर हर एक हिस्सा आर्शीवाद और महत्व से भरपूर है. ऐसी मान्यता है कि यहां फेरे लेने वाले जोड़े सात जन्मों तक शादी के पवित्र बंधन में बंधे रहते हैं. शायद यही वजह है कि आकाश अंबानी और श्लोका भी इसी मंदिर में सात फेरे लेने वाले हैं, ताकि शिव-पार्वती की तरह इनकी जोड़ी भी सदा-सदा के लिए बन जाए.

धर्म से जुड़ी अन्य खबरों को पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें.