नई दिल्ली: देश में फैले कोरोना वायरस महामारी का असर त्योहारों पर पड़ने लगा हैं. ऐसे में मुंबई समेत महाराष्ट्र में कोरोना का संकट काफी ज्यादा है. मुंबई में कोरोना के सबसे अधिक मामले सामने आए हैं. जिसे देखते हुए राज्य सरकार ने यहां लॉकडाउन की अवधि को 31 जुलाई तक के लिए बढ़ा दिया है. इसी के चलते राज्य सरकार ने धूम-धाम से मनाए जाने वाले त्योहारों को भी ना मनाने का आदेश दिया है. इसी बीच अब मुंबई के प्रसिद्ध लाल बाग के राजा के आयोजकों ने इस साल गणेश जी की मूर्ति को ना स्थापित करने का फैसला किया है.Also Read - IRCTC/Indian Railways: महाराष्ट्र से हिमाचल प्रदेश के बीच चलेगी वीकली स्पेशल ट्रेन, जानिए टाइमिंग

कोरोना महामारी को देखते हुए लालबागचा गणपति मंडल ने बुधवार को ये फैसला लिया. ज़ी न्यूज की एक रिपोर्ट के मुताबिक, गणपति उत्सव के बजाय इस साल ब्लड डोनेशन कैंप लगाया जाएगा. मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने सभी मंडलों को आदेश दिया था कि इस साल गणपति उत्सव हर साल की तरह न मनाया जाए, क्योंकि इसमें बड़ी तादाद में लोग जमा होते हैं. साथ ही उन्होंने कहा था कि गणपति की मूर्ति की ऊंचाई 4 फीट तक ही रखी जाए. ज़ी न्यूज के मुताबिक, मंडल के अधिकारियों का कहना है कि गणपति की लंबाई कम नहीं की जा सकती है. अगर छोटी मूर्ति लाई जाती है तो बप्पा के दर्शन के लिए बड़ी तादाद में लोग जमा होंगे. ऐसे में लोगों की सुरक्षा का ध्यान रखते हुए इस साल न ही कोई मूर्ति होगी, न ही मूर्ति विसर्जन किया जाएगा. Also Read - Maharashtra HSC 2021 Results Date Announce: मंगलवार को आएंगे महाराष्ट्र एचएससी 2021 के नतीजे, इस डायरेक्ट लिंक से ऐसे चेक करें रिजल्ट

बता दें कि मुंबई में हर साल गणेशोत्सव बड़ी धूम-धाम से मनाया जाता है. करोड़ों की संख्या में लोग इस दौरान लालबाग के राजा के दर्शन के लिए यहां आते हैं. मुंबई में गणेशोत्सव महोत्सव का काफी महत्व है. यहां हर साल लालबाग के राजा की 14 फीट ऊंची मूर्ति बनाई जाती है. लेकिन इस साल मुंबई के लोगों को गणेशोत्सव घर पर रहकर ही मनाना पड़ेगा. Also Read - शिवसेना ने कहा- महाराष्ट्र में बीजेपी का अंत निकट, जानें इतना क्यों गुस्साई है उद्धव की पार्टी