Nag Panchami 2018 Date: श्रावण मास के शुक्ल पक्ष की पंचमी तिथि को नाग पंचमी के रूप में मनाया जाता है. हिन्दू धर्म में नाग पंचमी का खास महत्व है और इस दिन देश के कई राज्यों में सर्प पूजन होती है. इस दिन 12 सर्प स्वरूपों की पूजा की जाती है और दूध चढ़ाया जाता है. ऐसा मानना जाता है कि नागराज को प्रसन्न करने से भोलेनाथ भगवान शंकर भी प्रसन्न हो जाते हैं और अपनी कृपा बरसाते हैं.

Pitru Paksha 2018 Date: कब से शुरू हो रहा है पितृ पक्ष, क्या होगा श्राद्ध का सही समय, जानिये

इस साल नागपंचमी का त्योहार 15 अगस्त को मनाया जाएगा. इस दिन नाग देवता की फल, फूल, प्रसाद और मंत्रों के साथ सर्पों की पूजा की जाएगी और दुग्ध स्नान कराया जाएगा. नागपंचमी के अवसर पर रुद्राभिषेक का भी खास महत्व है. ऐसी मान्यता है कि ऐसा करने से भगवान शंकर का आशीर्वाद प्राप्त होता है और नाग देवता पृथ्वी को संतुलित करते हुए मानव जीवन की रक्षा करते हैं.

इस दिन को गरुड़ पंचमी के नाम से भी जानते हैं. नाग देवता के साथ पंचमी के दिन गरुड़ की पूजा भी जाती है और सर्पों से रक्षा की प्रार्थना की जाती है.

Raksha bandhan 2018: जानिये, कब है रक्षाबंधन, क्या है राखी बांधने का शुभ मुहूर्त

नागपंचमी का शुभ मुहूर्त:

नागपंचमी 15 अगस्त को है-

पूजा का सबसे शुभ मुहूर्त – 15 अगस्त को सुबह 05:55 से 8:31 तक

पंचमी तिथि प्रारंभ – 15 अगस्त को सुबह 03:27 बजे शुरू

पंचमी तिथि समाप्ति – 16 अगस्त को सुबह 01:51 बजे खत्म

धर्म से जुड़ी अन्य खबरों को पढ़ने के लिए धर्म पर क्लिक करें.