Narak Chaturdashi 2018: नरक चतुर्दशी यानी कि छोटी दिवाली के दिन मां लक्ष्मी के साथ यमराज की भी पूजा की जाती है. कहते हैं आज के दिन यमराज देवता पूजन से प्रसन्न हो गए तो अकाल मृत्यु का भय नहीं होता. नरक चतुर्दशी के दिन के अच्छे स्वास्थ्य और आयु के लिए दीप जरूर जलाया जाता है. खासतौर से रात में घर के दरवाजे के बाहर यम का दीप जरूर रखा जाता है.

लेकिन अगर आपको पता नहीं है कि यम का दीप कैसे जलाते हैं तो हम यहां आपकी उलझन दूर कर रहे हैं. यहां हम आपको यम दीप जलाने की विधि बता रहे हैं, जो सरल तो है ही, साथ में पौराणिक भी है.

Naraka Chaturdashi, Choti Diwali 2018: इस विधि से करें छोटी दीपावली, नरक चतुर्दशी की पूजा, मन की हर मुराद होगी पूरी

नरक चतुर्दशी पर दीर्घायु के लिए ऐसे जलाएं यम देवता का दीपक:

– नरक चतुर्दशी पर घर के मुख्य द्वार पर यम देवता का दीपक जलाया जाता है.

– इस बात का ध्यान रखें कि दीप कभी भी जमीन पर रखकर नहीं जलाया जाता है, इसलिए दरवाजे के बाएं ओर पहले थोड़ा सा चावल रख दें और उसके ऊपर दीप रखें.

– इस बात का ध्यान रखना भी जरूरी है कि यम का दीपक घर के अंदर से जलाकर नहीं लाया जाता है. उसे बाहर लाने के बाद और स्थापित करने के बाद ही जलाया जाता है.

Happy Naraka Chaturdashi Wishes: छोटी दिवाली पर अपनों को भेजें बेहतरीन WhatsApp Status, Facebook Messages, Wishes, SMS, Images और DP

– चावल के ढेर पर सरसों के तेल का एक मुखी दीप जलाएं.

– दीप का मुख दक्षिण दिशा ओर होना चाहिए.

– दीपक के पास फूल और जल अर्पित कर पूजन करें और लंबी आयु की कामना करें.

– यम के दीपक की पूजा करने के बाद ऐसी मान्यता है कि दोबारा घर से बाहर नहीं निकला जाता है. इसलिए जब आपको लगे कि अब घर के बाहर का काम सारा खत्म हो गया है, तभी यम का दीप जलाएं.

धर्म से जुड़ी अन्य खबरों को पढ़ने के लिए धर्म पर क्लिक करें.