Narak Chaturdashi 2019 के दिन यम दीपक जलाने का महत्‍व है. नरक चतुर्दशी (Narak Chaturdashi) को यम चतुर्दशी (Yam Chaturdashi), रूप चतुर्दशी (Roop Chatirdashi) या रूप चौदस (Roop Chaudas) के नाम से भी जाना जाता है.

Narak Chaturdashi 2019 Date
इस साल नरक चतुर्दशी 27 अक्तूबर, रविवार को है.

Dhanteras 2019: धनतेरस पर बेहद शुभ है झाड़ू खरीदना, प्रसन्‍न होंगी मां लक्ष्‍मी, पर जरूर जानें ये 5 नियम…

पूजन विधि
कार्तिक कृष्ण चतुर्दशी की रात्रि के अंत में जिस दिन चंद्रोदय के समय चतुर्दशी हो, उस दिन सुबह दातुन आदि करके निम्नलिखित श्लोक का जाप करें
यमलोकदर्शनाभवकामोअहमभ्यंकस्नानं करिष्ये

क्‍या करें
शरीर में तिल के तेल आदि का उबटन लगा लें. हल से उखाड़ी मिट्टी का ढेला, अपामार्ग आदि को मस्तक के ऊपर बार-बार घुमाकर शुद्ध स्नान करें. सूर्योदय से पूर्व नहाना आयुर्वेद की दृष्टि से अति उत्तम माना गया है. जो ऐसा हर दिन नहीं कर पाते, उन्हें सूर्योदय के बाद अवश्य स्‍नान करना चाहिए. शाम केे समय यम केे नाम का दीपक जलाया जाता है. इसे परिवार के लिए शुभ मानते हैं. इस दीपक को जलाने से यमलोक जाने से मुक्ति मिलती है.

Diwali 2019: दिवाली पर करें ये 10 टोटके, पूरे साल धन वर्षा करेंगी मां लक्ष्‍मी…

नरक चतुर्दशी स्नान-दीपदान का शुभ मुहूर्त
नरक चतुर्दशी (27 अक्‍टूबर, रविवार) के अभ्यंग स्नान का समय सुबह 05:15 से 06:29 बजे का है. शाम 5:15 बजे से 6:29 बजे तक यम को दीप दान का शुभ समय है.

कैसे करें दीप दान
घर के सबसे बड़े सदस्‍य को यम के नाम का एक बड़ा दीपक जलाना चाहिए. इसके बाद इस दीये को पूरे घर में घुमाएं. अब घर से बाहर दूर इस दीये को रख आएं. घर के दूसरे सदस्‍य घर के अंदर ही रहें और इस दीपक को न देखें.

धर्म से जुड़ी अन्य खबरें पढ़ने के लिए धर्म पर क्लिक करें.