Navratri 2018: शारदीय नवरात्रि 2018 में मां दुर्गा का आगमन नाव से होगा और हाथी पर मां की विदाई होगी. यह अति शुभ है क्योंकि नाव पानी और फसल का प्रतीक है और हाथी समृद्ध‍ि का. देवी पुराण में नवरात्र में भगवती के आगमन व प्रस्थान के लिए वार अनुसार वाहन बताए गए हैं.

Navratri 2018: 10 अक्‍टूबर से शुरू हो रही है शारदीय नवरात्रि, पूजा में लगने वाली सामग्री की पूरी लिस्‍ट यहां देखें

देवी पुराण के अनुसार, मां के लिए आगमन का वाहन कौन सा होगा, यह दिन और वार पर निर्भर करता है. यदि मां रविवार व सोमवार आ रही हैं तो वह हाथी पर आएंगी, शनिवार व मंगलवार को घोड़े पर विराजमान होकर आती हैं और गुरुवार व शुक्रवार को पालकी में. इसी तरह बुधवार को नौका में मां का आगमन होता है.

Navratri 2018 date and time: नवरात्रि तारीख, समय और महत्व, किस दिन होगी कौन सी देवी स्वरूप की पूजा, जानिये

नाव पर आएंगी मां, जानिये महत्व:

इस बार बुधवार, 10 अक्टूबर से नवरात्रि शुरू हो रही है. ऐसे में मां बुधवार के दिन नौका पर सवार होकर आएंगी. धर्मशास्त्री सत्येंद्र नाथ के अनुसार मां दुर्गा का नाव पर आना बेहद शुभ माना जाता है. मां जब नाव पर आती हैं तो उस साल फसल अच्छी होती है और सूखा नहीं आता. मां के नाव पर आने का सीधा अर्थ यह है कि नाव के लिए पानी की आवश्यकता होती है और मां अपने साथ धरती पर पानी भी लाती हैं. इस साल के नवरात्रि किसानों के लिए खूब शुभ रहेंगे. उनकी फसल अच्छी होगी.

Sharadiya Navratri 2018: कलश स्‍थापना विधि और शुभ मुहूर्त

हाथी पर सवार होकर जाएंगी मां:

maa-durga

ऐसे ही मां की विदाई भी दिन और वार के अनुसार होता है. यदि नवरात्रि का विजयादशमी बुधवार या शुक्रवार को पड़े तो श्री दुर्गा माता का प्रस्थान हाथी पर होता है. इस बार विजयादशमी 19 अक्टूबर शुक्रवार को है इसलिए मां की विदाई हाथी पर होगी. यह भी एक शुभ संकेत है. मां दुर्गा की विदाई जब हाथी पर होती है तब हथिया ठीक ठाक बरसती है. शास्त्र में वर्णित है कि यदि श्री दुर्गा जी का प्रस्थान गज हाथी पर होता है तो संसार में कल्याण की वर्षा होती है.

धर्म से जुड़ी अन्य खबरों को पढ़ने के लिए धर्म पर क्लिक करें.