Sharadiya Navratri 2018: बुधवार 10 अक्टूबर 2018 से नवरात्रि की शुरुआत हो रही है. नवरात्रि का समापन 9 दिन बाद 19 अक्टूबर शुक्रवार को होगा. अगर आप नवरात्रि के नौ दिन व्रत का संकल्प ले रहे हैं तो आपको पहले दिन घटस्थापना करनी ही चाहिए. ऐसी मान्यता है कि धार्मिक कार्य शुरू करने से पहले कलश स्थापित करना शुभ होता है और इससे घर में सकारात्मक ऊर्जा आती है. Also Read - Eros Now की नवरात्रि को लेकर आपत्तिजनक पोस्ट, भड़कीं कंगना रनौत बोलीं- सारे OTT पोर्न हब

Also Read - Healthy Makhana For Navratri: नवरात्रि के कर रहे हैं उपवास तो डाइट में शामिल करें मखाना, मिलेंगे कई सारे फायदे

घट स्‍थापना का शुभ मुहूर्त: Also Read - Home Temple Cleaning Tips: नवरात्रि से पहले घर के मंदिर की ऐसे करें सफाई, जानें ये आसान तरीका

शुभ मुहूर्त और तिथि : 10 अक्टूबर, बुधवार को सुबह 06:18:40 से लेकर 10:11:37 तक घट स्थापना के लिए शुभ मुहूर्त है.

अवधि : 3 घंटे 52 मिनट

Navratri 2018 date and time: नवरात्रि तारीख, समय और महत्व, किस दिन होगी कौन सी देवी स्वरूप की पूजा, जानिये

वैसे नवरात्र के प्रारंभ से ही अच्छा वक्त शुरू हो जाता है इसलिए अगर जातक शुभ मुहूर्त में घट स्थापना नहीं कर पाता है तो वो पूरे दिन किसी भी वक्त कलश स्थापित कर सकता है क्योंकि मां दुर्गा कभी भी अपने भक्तों का बुरा नहीं करती हैं.

कैसे करें घट स्थापना

1. सबसे पहले जिस स्थान पर आपको घट स्थापना करनी है, उस स्थान को अच्छी तरह साफ कर लें.

2. इसके बाद वहां साफ लकड़ी का पटरा या कोई छोटी लकड़ी टेबल पर लाल कपड़ा बिछा लें. इस पर अक्षत डाले जाते हैं तथा कुमकुम मिलाकर डाला जाता है.

Navratri 2018: 10 अक्‍टूबर से शुरू हो रही है शारदीय नवरात्रि, पूजा में लगने वाली सामग्री की पूरी लिस्‍ट यहां देखें

3. इसके बाद मिट्टी के बर्तन में जौ बो दें और इसी बर्तन में जल से भरा हुआ कलश रख दें.

5. इस बात को याद रखें कि जल से भरा कलश खुला नहीं छूटना चाहिए. उस पर मिट्टी का बना ढक्कन जरूर रख दें. ढक्कन पर चावल या गेंहू रखें और उसके ऊपर नारियर रख दें.

6. इतना करने के बाद कलश के पास दीप जला दें.

7. कुश की चटाई पर बैठ जाएं और हाथ जोड़कर मां के मंत्रों का उच्चारण करें.

Navratri 2018: मां अम्बे को करना है प्रसन्न, पढ़ें ये चालीसा और आरती

नवरात्र में मां के 9 रूपों की पूजा होती है

10 अक्टूबर (बुधवार) 2018 : घट स्थापना व मां शैलपुत्री पूजा, मां ब्रह्मचारिणी पूजा (प्रथमा एंव द्वितिया)

11 अक्टूबर (बृहस्पतिवार ) 2018 : मां चंद्रघंटा पूजा

12 अक्टूबर (शुक्रवार ) 2018 : मां कुष्मांडा पूजा

13 अक्टूबर (शनिवार) 2018 : मां स्कंदमाता पूजा

14 अक्टूबर (रविवार ) 2018 : पंचमी तिथि सरस्वती आह्वाहन

15 अक्टूबर (सोमवार) 2018 : मां कात्यायनी पूजा

16 अक्टूबर (मंगलवार ) 2018 : मां कालरात्रि पूजा

17 अक्टूबर (बुधवार) 2018 : मां महागौरी पूजा, दुर्गा अष्टमी, महानवमी

18 अक्टूबर (बृहस्पतिवार) 2018 : नवरात्री पारण

19 सितम्बर (शुक्रवार ) 2018 : दुर्गा विसर्जन, विजय दशमी

दशहरा 2018/विजय दशमी: शुभ मुहूर्त और तिथि

तिथि: शुक्रवार, 19 अक्तूबर

विजय मुहूर्त : 13:58 से 14:43

अपराह्न पूजा समय: 13:13 से 15:28

दशमी तिथि आरंभ: 15:28 (18 अक्तूबर)

दशमी तिथि समाप्त: 17:57 (19 अक्तूबर)

धर्म से जुड़ी अन्य खबरों को पढ़ने के लिए धर्म पर क्लिक करें.