इस बार नवरात्र 17 अक्टूबर से शुरु हो रहे हैं, हालांकि हर साल ये पितृपतक्ष के समाप्त होने के अगले दिन से ही शुरु हो जाते हैं लेकिन इस बार मलमास ने पितृपक्ष और नवरात्रि के बीच करीब एक महीने का अंतर कर दिया है. ऐसे में अब मां के आगमन में करीब एक महीने का समय बचा हुआ है. हालांकि इस साल कोरोना की वजह से ये इतने धूम-धाम से नहीं मनाया जाएगा. Also Read - Navratri 2020 Kanya Pujan: आज अष्टमी-नवमी, इस शुभ मुहूर्त पर करें कन्या पूजन, ये है पूजा की विधि

सभी जानते हैं कि हिंदू धर्म में नवरात्रि का कितना खास महत्व है, नौ दिनों तक मां के अलग-अलग रुपों की पूजा बेहद धूम-धाम और प्यार से की जाती है. नवरात्रि के पहले दिन घट स्थापना के साथ ही मां की पूजा शुरु हो जाती है और हर पंडालों में मा दुर्गा की प्रतिमा स्थापित कर दी जाती है. ऐसे में चलिए जानते हैं कि इस बार आखिर कौन से सवारी पर सवार होकर मां पृथ्वी पर आ रही हैं और इसके क्या प्रभाव पड़गें. Also Read - Happy Durga Ashtami 2020 Wishes: दुर्गा अष्‍टमी पर भेजें ये SMS, WhatsApp Messages, Images, Quotes

मां के कौन-कौन से हैं वाहन
दरसल ज्योतिषशास्त्र और देवीभाग्वत पुराण के अनुसार मां दुर्गा का आगमन आने वाले भविष्य की घटनाओं के बारे में हमें संकेत देता है और चेताता है. देवीभाग्वत पुराण में इस बात का जिक्र है की देवी के आगमन का अलग-अलग वाहन है. माना जाता है कि अगर नवरात्रि की शुरुआत सोमवार या रविवार को हो रही है तो इसका मतलब है कि वो हाथी पर आएंगी. वहीं अगर शनिवार या फिर मंगलवार को कलश स्थापना हो रही है तो मां घोड़े पर सवार होकर आती है. गुरुवार या शुक्रवार को नवरात्र का आरंभ होता है तो माता डोली पर आती हैं. वहीं बुधवार के दिन मां नाव को अपनी सवारी बनाती हैं. Also Read - Navratri 2020: शीघ्र विवाह और धन प्राप्ति के लिए माता दुर्गा की पान के पत्तों से करें पूजा, मनोकामनाएं होंगी पूरी

इस बार घोड़े पर आएंगे मां
इस बार दुर्गा पूजा और नवरात्रि की शुरूआत शनिवार से हो रही है ऐसे में मां घोड़े को अपना वाहन बनाकर धरती पर आएंगी. इसके संकेत अच्छे नहीं हैं. माना जाता है कि घोड़े पर आने से पड़ोसी देशों से युद्ध,सत्ता में उथल-पुथल और साथ ही रोग और शोक फैलता है. बता दें कि इस बार मां भैंसे पर विदा हो रही है और इसे भी शुभ नहीं माना जाता है.

मां को करें खुश
मां इस पर घोड़े पर आ रही हैं औऱ इसके संकेत अच्छे नहीं है, ऐसे में कई सारी परेशानियों का सामना करना पड़ेगा. इसलिए नवरात्रि के दौरान पूरे मन से देवी की अराधना करें,व्रत करें ताकि मां आपके सारे दुखों को कम कर दें.