Parivartini Ekadashi 2019: परिवर्तिनी एकादशी के दिन भगवान विष्णु के वामन अवतार की पूजा की जाती है. ऐसा कहा गया है कि इस एकादशी पर श्री हरि शयन करते हुए करवट लेते हैं, इसलिए इसे एकादशी को परिवर्तिनी एकादशी कहा जाता है.

Parivartini Ekadashi 2019 Date
इस बार परिवर्तिनी एकादशी 9 सितंबर, सोमवार को है.

क्या आप चाहकर भी पैसे नहीं बचा पाते? इन 10 आदतों से घर में सदैव निवास करेंगी मां लक्ष्‍मी

महत्‍व
इसे पद्मा एकादशी या पार्श्‍व एकादशी भी कहा जाता है. इस व्रत में भगवान विष्णु के वामन अवतार की पूजा करने से वाजपेय यज्ञ के समान फल प्राप्त होता है. कहा गया है कि इस एकादशी व्रत से मनुष्य के समस्त पाप नष्ट होते हैं. इस दिन लक्ष्‍मी पूजन का विधान भी बताया गया है.

पूजा विधि
– एकादशी से एक दिन पहले सूर्यास्त के बाद भोजन नहीं करना चाहिए. रात्रि में भगवान विष्णु का ध्यान करते हुए सोएं.
– एकादशी वाले दिन प्रात:काल उठकर भगवान का ध्यान करें. स्नान के बाद व्रत का संकल्प लें.
– भगवान विष्णु की प्रतिमा के समक्ष घी का दीपक जलाएं.
– पूजा में तुलसी, ऋतु फलों का उपयोग करें.
– व्रत के दिन किसी की बुराई ना करें. झूठ ना बोलें. मन में सात्विक विचार रखें. यथाशक्ति दान करें.
– अगले दिन यानी द्वादशी तिथि को सूर्योदय के बाद व्रत का पारण करें.

Parivartini Ekadashi 2019 Shubh Muhurat
पार्श्व एकादशी पारणा मुहूर्त : 07:05:49 से 08:33:13 तक (10 सितंबर)
अवधि :1 घंटे 27 मिनट
हरि वासर समाप्त होने का समय: 07:05:49 पर (10 सितंबर)